मूसल हमले की जांच कर रही है अमरीकी सेना

इमेज कॉपीरइट JEREMY BOWEN

अमरीकी सेना ने माना है कि इराक में कथित इस्लामिक स्टेट से संघर्ष कर रही गठबंधन सेना के विमानों ने पश्चिमी मूसल में उस जगह हमला किया था जहां बड़ी संख्या में आम लोगों के मारे जाने की रिपोर्ट सामने आईं हैं.

अमरीकी सेना के मुताबिक इस मामले में जांच जारी है.

अमरीकी सेंट्रल कमान के मुताबिक लड़ाकू विमानों ने इराकी सेना के अनुरोध पर कार्रवाई की थी. हालांकि, किस देश के विमानों ने हमला किया था, इसकी जानकारी नहीं दी गई है.

सेना की ओर से जारी बयान में कहा है, " शुरुआती समीक्षा के मुताबिक" संकेत मिले हैं कि 17 मार्च को पश्चिमी मूसल में एक हवाई हमला हुआ था. "ये वही जगह है जहां कथित तौर पर आमलोग हताहत हुए हैं."

बयान में कहा गया है, "गठबंधन आम लोगों की मौत के आरोपों को गंभीरता से ले रहा है और हमले से जुड़े तथ्यों की जानकारी के लिए विधिवत जांच की जा रही है."

इराक: मोसुल में 'पहला रासायनिक हमला'

इराक़ के मूसल में अमरीकी हमले में 200 के मारे जाने की आशंका

इमेज कॉपीरइट AFP

हमले के बारे में विस्तार से जानकारी सामने नहीं आई है. रिपोर्टों के मुताबिक हमले में सौ से ज्यादा लोगों की मौत हुई. मारे गए लोगों की संख्या के बारे में स्वतंत्र स्रोत से पुष्टि नहीं हो सकी है.

इस बीच अमरीकी सेना की अगुवाई वाले गठबंधन के हवाई हमलों की आशंका में हज़ारों की संख्या में आम लोगों ने इस्लामिक स्टेट के कब्ज़े वाले इलाके को छोड़ दिया है.

पश्चिम मूसल में इराकी सेना और इस्लामिक स्टेट के बीच ज़ोरदार संघर्ष जारी है.

स्थानीय लोगों का कहना है कि इस्लामिक स्टेट के लड़ाके आम लोगों को ढाल की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं. वो उनके घरों में छुपे हुए हैं और युवाओं को अपनी तरफ से लड़ने के लिए मजबूर कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे