बांग्लादेश- दो धमाकों में छह मारे गए, गोलीबारी जारी

  • 26 मार्च 2017
बांग्लादेश इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सुरक्षाकर्मियों और चरमपंथियों के बीच अब भी गोलीबारी जारी है

बांग्लादेश में एक इमारत के पास दो विस्फोट में कम से कम 6 लोग मारे गए हैं. इसी इमारत में हमलावर छुपे हैं. सुरक्षाकर्मियों ने चारों तरफ़ से इस इमारत को घेर रखा है. यह इमारत बांग्लादेश के उत्तर-पूर्वी शहर सिलहट में है.

मरने वालों में दो पुलिस अफ़सर भी हैं. इस इमारत के आसपास भीड़ इकट्ठी हो गई है. इस विस्फोट की ज़िम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली है पर पुलिस को शक है कि यह हमला जमाएतुल मुजाहिदीन बांग्लादेश के एक नए गुट ने किया है.

बांग्लादेश: कैफे में 20 बंधकों की मौत

इमेज कॉपीरइट FOCUS BANGLA

इससे पहले बांग्लादेश की सेना ने कहा था कि चरमपंथियों के कब्ज़े वाली इस इमारत से 80 नागरिकों को सुरक्षित निकाला गया है.

शनिवार को हुए इस हमले में दर्जनों लोग जख़्मी भी हुए हैं. इमारत में छुपे हमलावरों और सुरक्षाकर्मियों के बीच गोलीबारी जारी है. पुलिस का कहना है कि पहला विस्फोटक डिवाइस दो लोगों मोटरबाइक पर लाए थे और दूसरा सब्जियों के एक थैले में छोड़ा गया था.

यह पांच फ्लोर की इमारत है. सेना का कहना है कि हलावरों ने इमारत के चारों तरफ़ विस्फोटक फैला रखा है. पुलिस ने घेराबंदी शुक्रवार सुबह ही शुरू कर दी थी. उसी दिन राजधानी ढाका में मुख्य एयरपोर्ट के पास एक आत्मघाती हमला हुआ था. इसमें केवल आत्मघाती हमलावर ही मरा था और इसकी ज़िम्मेदारी भी इस्लामिक स्टेट ने ही ली थी.

इमेज कॉपीरइट SHAKIR HOSSAIN

17 मार्च को ढाका में एक और संदिग्ध आत्मघाती हमला हुआ था. इस हमले में पुलिस के बैरक को निशाना बनाया गया था, जिसमें दो सुरक्षाकर्मी जख़्मी हुए थे. एक दिन बाद एक चेकपॉइंट पर सुरक्षाकर्मियों ने एक आदमी को गोली मारी थी. पुलिस का कहना था कि इसके पास से बम बरामद हुए थे.

इस तरह की हिंसा में बढ़ोतरी तब हो रही है जब बांग्लादेश को लग रहा है कि उसके सुरक्षाकर्मी इस्लामी लड़ाकों को काबू में करने में कामयाब रहे हैं.

पिछले साल ढाका के एक कैफे में हुए हमले के बाद से कोई बड़ा हमला नहीं हुआ है. इस हमले के बाद से बांग्लादेश की सेना ने कई जगह छापेमारी की थी. देश में कई गिरफ़्तारियां हुई थीं और कई संदिग्धों को मार भी दिया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे