महिला 'चिल्लाई' नहीं, रेप केस खारिज

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इटली की एक अदालत ने यौन उत्पीड़न के एक मामले में अभियुक्त को इस आधार पर बरी कर दिया कि घटना के समय महिला ज़ोर से चिल्लाई नहीं थी.

पिछले महीने सुनाई गए इस फ़ैसले के बाद इटली में लोगों ने गुस्सा जताया है और अब इटली के न्याय मंत्री ने कहा है कि वह मामले की जांच करेंगे.

ब्लॉग: यौन उत्पीड़न की शिकायत करना आसान नहीं

एक बलात्कारी को कोर्ट ने क्यों छोड़ दिया

इटली का मोस्ट वॉन्टेड माफ़िया सरग़ना गिरफ्तार

तूरिन की एक अदालत ने पिछले महीने कहा था कि महिला का कथित हमलावर (जो उनके सहकर्मी थे) को 'एनफ़' (बहुत हुआ) कहना यह साबित करने के लिए मज़बूत प्रतिक्रिया नहीं थी कि उसका यौन उत्पीड़न किया गया.

ख़बरों में कहा गया है कि इस फ़ैसले के बाद महिला को मानहानि के मुक़दमे का सामना करना पड़ रहा है.

इस फ़ैसले ने इटली में बड़ा विवाद पैदा कर दिया है.

न्याय मंत्री एंद्रिया ओरलांडो ने अपने मंत्रालय के इंस्पेक्टरों को 2011 के इस मामले की छानबीन करने को कहा है.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

एक स्थानीय अख़बार के मुताबिक़ कथित पीड़िता तूरीन के एक अस्पताल में काम करती थी. उनका आरोप है कि अभियुक्त ने सेक्स के लिए दबाव डाला. महिला का आरोप है कि अभियुक्त ने कहा कि अगर उसने सहयोग नहीं किया तो वह उसको काम दिलाना बंद कर देगा.

जब उनसे अदालत में पूछा गया कि इसका उन्होंने कड़ाई से विरोध क्यों नहीं किया तो उन्होंने कहा, '' कई बार ना कहना ही काफी होता है. हो सकता है कि मैंने बल और हिंसा का प्रयोग नहीं किया, जिनका वास्तव में मुझे प्रयोग करना चाहिए था. वह व्यक्ति ताक़तवर था. मैं ऐसे में फ़्रीज़ हो जाती हूँ.''

मुक़दमे के दौरान महिला के वकीलों ने कहा कि पीड़ित महिला के पिता ने बचपन में ही उसका उत्पीड़न किया था.

इस मामले के अभियुक्त ने हालांकि सेक्स संबंध की बात तो स्वीकार की, लेकिन उनका कहना था कि यह सब आपसी सहमति से हुआ.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे