कभी नशे के ग़ुलाम थे आज करोड़ों के कारोबारी

  • 27 मार्च 2017
ख़लील रफ़ती, नशे के शिकार से उद्यमी बने अमरीकी इमेज कॉपीरइट KHALIL RAFATI
Image caption नशाखोरी ने ख़लील रफ़ती की ज़िंदगी तबाह कर दी थी

लॉस एंजिल्स के डॉक्टर ख़लील रफ़ती की जान बचाने के लिए जी-जान से जुटे हुए थे. अंत में उन्हें बिजली के झटके दिए गए और तब वो होश में आ सके.

यह घटना साल 2003 की है और उस समय ख़लील 33 साल के थे. वे नशाखोरी के शिकार थे और यह नौवां मौका था जब उन्होंने ड्रग्स की ओवरडोज़ ली थी.

बाद में ख़लील ने कहा था, "अब तो मुझे यह याद भी नहीं है कि मैं कितनी बार गिरफ़्तार हुआ. सब कुछ गड़बड़ हो गया. मेरे पूरे शरीर में इतना दर्द होता था कि मैं सो नहीं पाता था."

चॉकलेट ड्रग्स: नशे के सौदागरों की नई पेशकश

बदली ज़िंदगी

इमेज कॉपीरइट KHALIL RAFATI
Image caption ख़लील रफ़ती पूरी तरह बदल चुके हैं

नौवीं बार नशे के ओवरडोज़ ने खलील को इस तरह झकझोर दिया कि उन्होंने अपने जीवन में अहम बदलाव का फ़ैसला कर लिया.

चार महीने पुनर्वास केंद्र में गुजारने के बाद उन्होंने नशा पूरी तरह छोड़ दिया.

उन्होंने कैलिफ़ोर्निया में फलों का रस बेचने का व्यवसाय शुरू किया और सनलाइफ़ ऑर्गेनिक्स की नींव डाली.

आज उस कंपनी का कारोबार छह जगहों पर है. इसमें 200 से ज़्यादा लोग काम करते हैं.

ड्रग्स तस्करी के मुख्य केंद्रों में भारत

ड्रग्स मामला: जैकी चैन का बेटा गिरफ़्तार

जूस का कारोबार

इमेज कॉपीरइट SUNLIFE ORGANICS

कंपनी जूस बेचने के अलावा जूस हाउस-कम कैफ़े और जूस बार भी चलाती है.

उसका सालाना कारोबार 60 लाख डॉलर से ज़्यादा हो चुका है.

किसी समय नशे में धुत सड़क पर पाए गए ख़लील रफ़ती आज निजी जेट से सफ़र करते हैं.

उनका जन्म अमरीका के ओहायो में हुआ. उनकी मां पोलिश मूल की यहूदी हैं जबकि उनके पिता मुस्लिम हैं.

कामयाब उद्यमी

इमेज कॉपीरइट SUNLIFE ORGANICS
Image caption ख़लील की कंपनी का सालाना कारोबार 60 लाख डॉलर पार कर चुका है

ख़लील का बचपन बहुत अच्छा नहीं बीता, दुकानों में छोटी-मोटी चोरी और तोड़फोड़ के आरोप में वे कई बार गिरफ़्तार हुए.

वे 21 साल की उम्र में लॉस एंजिल्स चले गए और फ़िल्म स्टार बनने के ख़्वाब देखने लगे.

ख़लील स्थानीय बैंड से जुड़ गए. उन्होंने हॉलीवुड स्टार एलिज़ाबेथ टेलर और जेफ़ ब्रिज़ेज जैसे कलाकारों की गाड़ियां साफ़ कर किसी तरह गुज़र-बसर किया.

बाद में वे नशा करने लगे और मामला उनके हाथों से बाहर निकल गया.

निजी जेट से सफ़र

इमेज कॉपीरइट KHALI RAFATI
Image caption किसी समय सड़क पर सोने वाले ख़लील आज निजी जेट से सफ़र करते हैं

उनकी हालत इतनी बुरी हो गई उन्हें सड़कों पर गुजारा करना पड़ा, गत्ते के डिब्बे में रात को सोना पड़ा.

वे नशे का ओवरडोज़ लेते रहे.

लेकिन नवें ओवरडोज़ के बाद उन्होंने ज़िंदगी सुधारने का संकल्प लिया और फिर उनके लिए सब कुछ बदल गया.

डॉएचे बैंक के न्यूयॉर्क स्थित विश्लेषक रॉब नज़ारा का मानना है कि इससे ख़लील के चरित्र की मजबूती साबित होती है.

वे कहते हैं, "आप किसी भी शैक्षणिक और पेशागत के पृष्ठभूमि के हों, उद्यमी के रूप में कामयाब होने के लिए ज़रूरी है आपका संकल्प, दृढ़ निश्चय और आपकी महात्वाकांक्षा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे