अमरीका: डोनल्ड ट्रंप को अदालत ने फिर दिया झटका

पाबंदी के खिलाफ प्रदर्शन करती एक महिला. इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीकी प्रांत हवाई की एक अदालत ने राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की ओर से छह मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों के लिए लगाए गए यात्रा प्रतिबंधों पर अनिश्चितकाल के लिए रोक लगा दी है.

जज डेरिक वॉटसन के इस फ़ैसले का मतलब यह हुआ कि मामला जब तक अदालत में है राष्ट्रपति ट्रंप अपने आदेश को लागू नहीं कर पाएंगे.

ट्रंप ने रद्द की ओबामा की जलवायु परिवर्तन नीति

नज़रिया: 'ट्रंप मेरे राष्ट्रपति नहीं हैं'

हवाई, अमरीका के उन राज्यों में से एक है जहां ट्रंप के इस प्रतिबंध को रोकने की कोशिश कर रहे हैं.

पाबंदी का असर

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption अनिश्चितकालीन पाबंदी लगाने वाले जज डेरिक वॉटसन

मुक़दमे के दौरान अदालत ने कहा कि ये पाबंदी मुसलमानों के प्रति भेदभाव है और इसका असर पर्यटन और विदेशी छात्रों और कामगारों के आने पर पड़ेगा.

उधर राष्ट्रपति ट्रंप का कहना है कि नया ट्रेवल बैन चरमपंथियों को अमरीका आने से रोकता है.

हवाई के अटार्नी और अमरीकी न्याय विभाग की दलीलें सुनने के बाद जज डेरिक वॉटसन ने बुधवार रात यह फ़ैसला सुनाया.

छह मार्च को जारी राष्ट्रपति ट्रंप का कार्यकारी आदेश अनुसार ईरान, लीबाया, सोमालिया, सूडान और यनम के नागरिकों के अमरीका आने पर 90 दिन की पाबंदी और शरणार्थियों के आने पर 120 दिन की पाबंदी लगाता है.

इस साल जनवरी में पहले जारी इस तरह के आदेश से लोगों में भ्रम फैल गया था. लोगों ने इसका विरोध किया था. इस पर सिएटल की एक अदालत ने रोक लगा दी थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हवाई की अदालत के इस फ़ैसले के खिलाफ नाइंथ सर्किट कोर्ट ऑफ़ अपील में याचिका दायर किए जाने की संभावना है. इसी अदालत ने सिएटल की अदालत के फ़ैसले पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था.

राष्ट्रपति के कार्यकारी आदेश में पहले इराक़ का भी नाम था. लेकिन अधिकारियों के मुताबिक़ इराक की सरकार ने वीज़ा की जांच-पड़ताल बढ़ा दी थी. इसके बाद उसका नाम इस सूची से हटा दिया गया था.

संशोधित आदेश में सीरियाई शरणार्थियों पर लगाई गई अनिश्चितकालीन पाबंदी को भी हटा लिया था. इसमें कहा गया था कि इन देशों के जिन लोगों के पास ग्रीनकार्ड है, उनके आने जाने पर कोई पाबंदी नहीं रहेगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे