गर्भवती छात्राओं के पढ़ने पर पाबंदी

  • 31 मार्च 2017
इमेज कॉपीरइट OLIVIA ACLAND

सियरा लियोन में प्रेगनेंट लड़कियों को स्कूल जाने की मनाही है. तर्क ये है कि उनके जाने से सहपाठी लड़कियों पर बुरा असर पड़ेगा.

इमेज कॉपीरइट OLIVIA ACLAND

इबोला संकट के बाद जब अप्रैल 2015 में स्कूल खुले तो शिक्षा, विज्ञान और टेक्नोलॉजी मंत्रालय ने एक बयान जारी कर ऐसी किशोरियों को स्कूल में जाने और परीक्षा में बैठने पर प्रतिबंध लगा दिया था.

इमेज कॉपीरइट OLIVIA ACLAND

इसके लिए लड़कियों का शारीरिक परीक्षण करने का प्रावधान किया गया है.

इमेज कॉपीरइट OLIVIA ACLAND

प्रतिबंध को दो साल पूरे होने वाले हैं लेकिन अभी भी यह जारी है. हालांकि कौशल प्रशिक्षण केंद्र इन लड़कियों के लिए खुले रखे गये हैं.

इमेज कॉपीरइट OLIVIA ACLAND
Image caption इसातू

अलीविया एक्लैंड ने प्रेगनेंट लड़कियों की तस्वीरें लीं और उनकी कहानियों का इकट्ठा किया, जिसमें पता चला कि ऐसी लड़कियां मुश्किल से ही मुख्यधारा में लौट पाती हैं.

इमेज कॉपीरइट OLIVIA ACLAND

20 साल की एम्मा के अनुसार, "प्रेगनेंट होने के बाद मैं कैटरिंग सीखने के लिए लर्निंग सेंटर जाने लगी. पुराने स्कूल में मुझे तब हकीक़त बतानी पड़ी जब टीचर ने मुझे डेस्क पर सोते हुए पाया था. वो मुझे प्रिंसिपल के पास ले गईं और फिर मुझसे यहां न आने के लिए कहा गया."

इमेज कॉपीरइट OLIVIA ACLAND
Image caption जनेबा का जब पेट निकलने लगा तो उन्होंने शर्म के मारे खुद ही स्कूल जाना छोड़ दिया

हेयर ड्रेसर बनने की चाह रखने वाली 18 साल की इसातू कहती हैं, "मैं डॉक्टर बनने का सपना देखती थी लेकिन मुझे नहीं लगता कि ऐसा हो पाएगा. कभी स्कूल भी जा पाउंगी, ये नहीं लगता."

इमेज कॉपीरइट OLIVIA ACLAND

जनेबा कहती हैं, "मुझे याद है कि प्रिंसिपल ने कहा कि गर्भवती लड़कियां ना आएं, ये स्कूल के लिए बहुत ही शर्मिंदगी भरा है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आपयहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे