चीन में वीगर मुसलमानों की 'लंबी दाढ़ी' पर प्रतिबंध

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चीन सरकार ने शिन्ज़ियांग प्रांत में इस्लामी चरमपंथ के ख़िलाफ़ अभियान के तहत वीगर मुस्लिमों पर नए प्रतिबंध लगाए गए हैं.

इनमें 'असामान्य' रूप से लंबी दाढ़ी रखने, सार्वजनिक स्थानों पर नक़ाब लगाने और सरकारी टीवी चैनल देखने से मना करने जैसी पाबंदियाँ शामिल हैं.

चीन के वीगर मुसलमान शिन्ज़ियांग प्रांत में बसे हैं जो चीन सरकार पर अपने साथ भेदभाव करने का आरोप लगाते रहे हैं. हाल के सालों में इस प्रांत में कई ख़ूनी संघर्ष हुए हैं.

चीनी सरकार इस हिंसा के लिए इस्लामिक चरमपंथियों और अलगाववादियों को ज़िम्मेदार बताती है.

'मेरे वीज़ा को चीन से जोड़कर न देखें'

पासपोर्ट के लिए वीगरों को देना होगा डीएनए नमूना

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सख़्त क़ानून

ये प्रतिबंध पहले से ही शिन्ज़ियांग में लगाए गए थे लेकिन इस हफ्ते के अंत तक उन्हें क़ानूनी तौर पर लागू किया जा रहा है.

इन नियमों के मुताबिक़ स्टेशन और एयरपोर्ट जैसी सार्वजनिक जगहों पर काम करने वाले कर्मचारी उन लोगों पर रोक लगा सकते हैं जो पूरी तरह से अपने शरीर को ढके रहते हैं या चेहरे पर नक़ाब लगाते हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

रॉयटर्स न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक़ नए क़ानून के तहत ये सब भी प्रतिबंधित होगाः

  • बच्चों को सरकारी स्कूल में दाखिला लेने की अनुमति ना देना.
  • परिवार कल्याण की नीतियों का पालन ना करना
  • जानबूझकर क़ानूनी दस्तावेज़ों को बर्बाद करना.
  • सिर्फ़ धार्मिक प्रक्रियाओं के तहत शादी करना.

वीगर मूल रूप से तुर्की के मुसलमान हैं. शिन्ज़ियांग में इनकी संख्या 45 फीसदी है, वहां 40 फीसदी हान चीनी रहते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे