किर्गिस्तान का था पीटर्सबर्ग धमाके का संदिग्ध

  • 4 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

रूसी जांच अधिकारियों के मुताबिक़ रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में हुए बम हमले के पीछे उस व्यक्ति का हाथ हो सकता है जिसके शरीर के टुकड़े ट्रेन की बोगी से मिले हैं.

किर्गिस्तान की सुरक्षा सेवा के अनुसार संदिग्ध का नाम अकबरज़न जलिलोव है, जो किर्गिज़ शहर ओश में 1995 में पैदा हुए थे और उन्होनें रूसी नागरिकता ले ली थी.

बाद में रूसी जांच एजेंसी ने उनके नाम की पुष्टी की और कहा कि अकबरज़न ने ही दूसरा बम भी रखा था जिसमें विस्फोट नहीं हुआ.

इस हमले की ज़िम्मेदारी किसी भी गुट ने नहीं ली है.

सेंट पीटर्सबर्ग में सोमवार को मेट्रो में हुए धमाके में 14 लोगों की मौत हो गई थी और 49 से अधिक लोग घायल हो गए थे. ये धमाका दो भूमिगत स्टेशनों सेनाया प्लुचैड और इंस्टीच्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉज़ी के बीच हुआ था.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

बाद में एक अन्य स्टेशन पर भी विस्फोटक उपकरण मिले थे, जिन्हें निष्क्रिय कर दिया गया.

रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लेवरोव ने अंदेशा जताया है कि ये सीरिया को लेकर रूस की नीति पर बदले की कार्रवाई हो सकती है.

हमले को लेकर रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने अपने किर्गीज़ समकक्ष एरलन अब्दिलदेयेव से मुलाक़ात में कहा कि ये एक बार फिर इस तरह के हमलों से निपटने के लिए साझा प्रयासों के महत्व को दर्शाता है.

सेंट पीटर्सबर्ग के अधिकारियों ने तीन दिन के शोक की घोषणा की है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

रूसी प्रधानमंत्री दिमित्रि मेदवेदेव ने एक फ़ेसबुक पोस्ट में इसे आतंकवादी हमला बताया था.

इस मामले की जाँच आतंकवाद निरोधी दल को सौंपी गई है, लेकिन साथ ही दूसरे एंगल से भी जाँच की जा रही है.

सेंट पीटर्सबर्ग हमला: 'रोशनी नहीं थी और खून ही खून बिखरा था'

सेंट पीटर्सबर्ग मेट्रो में धमाका और उसके बाद

फ्रांस में चरमपंथी हमला, 84 मौतें

हुआ क्या था?

इमेज कॉपीरइट Reuters

सोशल मीडिया पर डाली गई पहली तस्वीर में दिख रहा है कि इंस्टीच्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी पहुँची ट्रेन के एक हिस्से में बहुत बड़ा सुराख दिखाई दे रहा है और कई लोग हताहत हैं.

शुरुआती खबरों में कहा गया था कि दो धमाके हुए हैं, पहला सेनाया में और दूसरा इस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी स्टेशन पर.

लेकिन रूस की राष्ट्रीय आतंकवाद निरोधी कमेटी ने बाद में पुष्टि की, कि सिर्फ़ एक ही धमाका स्थानीय समय के अनुसार दिन में ढाई बजे हुआ है और वो भी इन दोनों स्टेशनों के बीच.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे