चीन के किंग मिंग उत्सव में हाइटेक श्रद्धांजलि

  • 5 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption किंग मिंग की एक परंपरा के अनुसार क़ब्र पर लोग प्रसाद चढ़ाते हैं

चीन में लाखों लोग इस हफ़्ते अपने पूर्वजों को किंग मिंग उत्सव के दौरान श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

सैकड़ों साल पुराने इस त्योहार को ''टूम्ब स्वीपिंग डे'' भी कहते हैं. इसमें परपंरागत रूप से अपने प्रियजनों की क़ब्र को सजाया जाता है और उनके लिए प्रार्थना की जाती है. लेकिन इन दिनों ये उत्सव भी हाई टेक होता जा रहा है.

वर्चुअल शोक

बीजिंग न्यूज़ के मुताबिक़ इस साल नानजिंग में ख़ास सुविधा मुहैया कराई गई है. इसके तहत आपको क़ब्र तक ख़ुद आने की ज़रूरत नहीं है, युहाताई गोंगदेयुआन क़ब्रिस्तान के कर्मचारी क़ब्र को साफ़ करके फूल चढ़ाते हैं और आप वीचैट के ज़रिए सब कुछ लाइव देख सकते हैं.

शंघाई डेली के अनुसार कई क़ब्रिस्तानों ने ऑनलाइन मेमोरियल पेज बनाए हैं, जहां आप वर्चुअल मोमबत्ती जलाकर और वर्चु्अल तोहफे ख़रीदकर श्रद्धांजलि दे सकते हैं.

कुछ जगह क़ब्र के पत्थरों के क्यूआर कोड्स दिए गए हैं जिन्हें फ़ोन से स्कैन कर मेमोरियल के फोटो और वीडियो लिए जा सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कुछ चीनी क़ब्रिस्तान क्यूआर कोड देते हैं जो क़ब्र पर लिखे होते हैं.

पेपर के गैजेट्स

कुछ चीनी लोग पेपर के बने गैजेट्स मृत व्यक्तियों को समर्पित कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY IMAGES
Image caption मृत व्यक्ति के लिए पेपर आईपेड और आईफोन भी मिलते हैं

पेपर के कपड़े, हैंडबैग, घड़ियां और गैजेट्स क़ब्र पर चढ़ाना अब आम चलन हो गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पेपर के सीडी प्लेयर भी मृत व्यक्ति को समर्पित किए जाते हैं

वर्चुअल शोक सभा करने का एक कारण ये भी है कि इससे वायु प्रदूषण कम होता है.

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images
Image caption कई चीनी अब भी क़ब्र पर जाकर श्रद्धांजलि देने की परंपरा ही निभाते हैं.

हालांकि कुछ चीनी लोगों का अब भी यही मानना है कि क़ब्र पर ख़ुद जाकर ही श्रद्धांजलि देनी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे