सीरिया में 'रासायनिक हमला,' बच्चों समेत 58 की मौत

इमेज कॉपीरइट Reuters

मॉनिटरिंग समूहों का कहना है कि सीरिया में विद्रोहियों के कब्ज़े वाले इदलिब शहर में हुए संदिग्ध रासायनिक हमले में 11 बच्चों समेत कम से कम 58 लोगों की मौत हो गई है और दर्जनों लोग ज़ख़्मी हुए हैं.

द सीरियन ऑब्ज़र्वेटरी फ़ॉर ह्यूमन राइट्स के मुताबिक ख़ान शेखौन में सीरियाई सरकार और रूसी जेट के हमले में कई लोगों के दम घुटने की ख़बरें आई हैं.

यूरोपीय संघ ने कहा है कि इस संदिग्ध रासायनिक हमले की ज़िम्मेदारी सीरियाई सरकार की है. फ़्रांस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक बुलाने की मांग की है. तुर्की ने रूस से बातचीत में ये मामला उठाया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

रासायनिक हमले से सीरियाई सरकार का इनकार

डॉक्टरों और कार्यकर्ताओं के मुताबिक बाद में घायलों का इलाज कर रहे क्लीनिकों पर विमानों से रॉकेट बरसाए गए.

सीरीयाई सरकार लगातार रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल से इनकार कर रही है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अगर ये साबित होता है कि ये रासायनिक हमला था तो सीरिया में गृहयुद्ध छिड़ने के 6 सालों में ये सबसे घातक रासायनिक हमला होगा.

राष्ट्रपति बशर अल असद के विरोधियों की स्थानीय कोऑर्डिनेशन कमेटियों के नेटवर्क ने उन लोगों की तस्वीरें पोस्ट की हैं जिनकी मौत दम घुटने से हुई बताई जा रही है.

सीरिया में विद्रोहियों का नया हमला

सीरिया में हवाई हमले में 42 की मौत.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सीरिया में हुए इस हमले के बच्चे शिकार हुए हैं

पीड़ितों में कई बच्चे

इदलीब में एक चैरिटी एम्बुलेंस के प्रभारी मोहम्मद रसूल ने बीबीसी अरबी को बताया कि उन्होंने स्थानीय समय 6.45 बजे हवाई हमले की आवाज़ सुनी और जब वो 20 मिनट बाद वहां पहुंचे तो डॉक्टरों ने देखा कि सड़कों पर लोगों का दम घुट रहा है.

उन्होने बताया, ''वहां हालात बेहद ख़राब थे और पीड़ितों में ज़्यादाकर बच्चे थे.''

इमेज कॉपीरइट Reuters

समाचार एजेंसी एएफपी के पत्रकार के मुताबिक़ उन्होंने एक किशोर लड़की, एक महिला और दो बुज़ुर्गों के शवों को अस्पताल में देखा, उनके मुंह के चारों ओर झाग साफ दिखाई दे रहा था.

हालांकि संयुक्त राष्ट्र और ऑर्गनाइज़ेशन फॉर द प्रोहिबिशन ऑफ़ केमिकल वेपन की पिछले अक्टूबर में हुई जांच के निष्कर्ष में कहा गया है कि साल 2014 से 2015 के बीच सरकारी सेना ने कम से कम तीन बार क्लोरीन का हथियार के रूप में इस्तेमाल किया.

जांच में यह भी पाया गया कि इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों ने मस्टर्ड गैस का इस्तेमाल किया जिससे शरीर पर फफोले निकल आते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे