अमरीका: ट्रंप ने मुख्य रणनीतिकार को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद से हटाया

इमेज कॉपीरइट EPA

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद से वरिष्ठ रणनीतिकार स्टीव बैनन को हटा दिया है.

जनवरी में स्टीव बैनन की नियुक्ति पर ख़ुफ़िया एंजेसियों से जुड़े लोगों ने इस परिषद के राजनीतिकरण का डर जताया था.

स्टीव बैनन को हटाने पर व्हाइट हाउस ने सफ़ाई दी है कि उन्हें हटाना उनकी डिमोशन या पदावनति नहीं है.

व्हाइट हाउस के एक प्रतिनिधि के मुताबिक पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार पद पर नियुक्त किए गए माइकल फ़्लिन पर नज़र रखने के लिए ही राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद में स्टीव बैनन को जगह दी गई थी.

प्रचार से जुड़े नेता ट्रंप की टीम में

पाकिस्तान के ख़िलाफ़ अमरीका में बिल पेश

फरवरी में माइकल फ़्लिन को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार पद से हटा दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीका में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद राष्ट्रपति को राष्ट्रीय और विदेशी मामलों पर सलाह देने का काम करती है.

ब्रेइबार्ट न्यूज़ वेबसाइट के प्रबंधक रहे स्टीव बैनन के आलोचक उन पर गोरों की हिमायत करने वाले राष्ट्रवादी होने का आरोप लगाते हैं.

विश्लेषक ब्रेइबार्ट वेबसाइट पर विदेशी लोगों और महिलाओं के प्रति नफ़रत भरा रवैया रखने का आरोप भी लगाते हैं.

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद में किए गए फेरबदल के बाद सीआईए निदेशक और ज्वाइंट चीफ़्स ऑफ़ स्टाफ़ के प्रमुख को फिर से परिषद की प्रधान कमेटी में शामिल कर लिया गया है.

इसे पहले 27 जनवरी को स्टीव बैनन को परिषद में शामिल करने के साथ ही सेना के चीफ़्स ऑफ़ स्टाफ़ की पदावनति की घोषणा की गई थी, इसे लेकर विदेश नीति और सुरक्षा क्षेत्र में वॉशिंगटन की काफ़ी आलोचना हुई थी.

राष्ट्रीय खुफ़िया विभाग के निदेशक और ज्वाइंट चीफ़्स को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की उन्हीं बैठकों में शामिल होने को कहा गया था जिसमें उनके विषयों पर चर्चा होनी हो.

राष्ट्रपति ट्रंप के प्रशासन ने इस पर दलील दी थी कि पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के पूर्व सलाहकार डेविड एक्सेलरॉड भी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठकों में हिस्सा लिया करते थे.

हालांकि ओबामा के पूर्व सलाहकार एक्सेलरॉड को कभी प्रिंसिपल कमेटी में जगह नहीं दी गई थी जबकि स्टीव बैनन को इसमें शामिल किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे