क्यों हाथ पकड़ कर फ़ोटो खिंचवा रहे हैं पुरुष ?

  • 6 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Twitter/Lodewijk Asscher
Image caption उप प्रधानमंत्री भी आए समलैंगिकों के साथ

नीदरलैंड्स में रविवार को दो समलैंगिक पुरुषों पर कथित हमले के बाद सोशल मीडिया पर ऐसी तस्वीरों की बाढ़ आ गई है जिसमें पुरुष एक दूसरे का हाथ पकड़े हुए हैं.

समलैंगिक पुरुषों पर कथित हमले की ख़बर सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर #handinhand और #allemannenhandinhand ट्रेंड करता रहा.

नेता और मशहूर हस्तियां ही नहीं, नीदरलैंड्स के उप प्रधानमंत्री भी इस अभियान में जुड़ गए.

उप प्रधानमंत्री लोडेवाइक फ्रांस आशर ने सोशल मीडिया वेबसाइट ट्विटर पर अपनी एक तस्वीर पोस्ट की जिसमें वो एक अन्य पुरुष का हाथ पकड़े नज़र आ रहे हैं.

समलैंगिक शादी की सुविधाओं पर सवाल

मुसलमानों और समलैंगिकों का प्रवेश निषेध

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ले हेग में बैठक के लिए पहुंचे डेमोक्रैट 66 पार्टी के नेता एलेग्ज़ेंडर पकटोल्ड और वूटर कूलमीस

नीदरलैंड्स के अलावा कई जगहों पर नेता, जानी-मानी हस्तियां और फ़ुटबॉल के दिग्गज होमोफ़ोबिया या समलैंगिकता से डर के ख़िलाफ़ अपनी तस्वीरें पोस्ट कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट MIKAEL BERTELSEN
Image caption रेडिया और टीवी होस्ट माइकल बेर्डेलस्टन ने इंस्टाग्राम पर अपनी तस्वीर पोस्ट की

35 साल के जास्पर वेर्नेस सेवरतन और 31 साल के रॉनी सेवरतन वेर्नेस का कहना है कि उन पर नीदरलैंड्स के दक्षिणी शहर आर्नहेम में रविवार सुबह कुछ लोगों ने हमला कर दिया.

इस घटना के बारे में नीदरलैंड्स के एक कार्यक्रम पॉ में बताया गया कि दोनों ने हाथ पकड़े जिसके बाद उन पर कथित हमला किया गया.

चीन: 'समलैंगिकता के इलाज' पर उठे सवाल

इमेज कॉपीरइट ANDREAS SCHIEDER
Image caption ऑस्ट्रिया के नेता एंड्रियस शाइडर ने अपनी तस्वीर के साथ लिखा, 'नीदरलैंड्स या ऑस्ट्रिया में होमोफ़ोबिया की कोई जगह नहीं है'

हालांकि संदिग्ध हमलावरों में से एक के वकील ने इस कार्यक्रम में कहा था कि पहले समलैंगिक जोड़े की तरफ़ से हमला किया गया लेकिन समलैंगिक पुरुषों ने इस आरोप से इनकार किया है.

इमेज कॉपीरइट VICKY BAKER
Image caption न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र में यूं पहुंचा नीदरलैंड्स का प्रतिनिधि मंडल
इमेज कॉपीरइट CANCER CENTER UMCU
Image caption दो स्वास्थ्यकर्मियों ने अपनी तस्वीर के साथ लिखा, '' क्योंकि प्यार सबके लिए है.''

नीदरलैंड्स में मीडिया के मुताबिक पिछले हफ़्ते एमस्टरडैम और आइंटहोवन में भी समलैंगिकता के आधार पर हमलों की शिकायतें सामने आ चुकी हैं.

नीदरलैंड्स 2011 में समलैंगिक शादियों को कानूनी दर्जा देने वाला पहला देश बन गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)