मुसलमानों का जातीय संहार नहीं: सू ची

इमेज कॉपीरइट EPA

आंग सांग सू ची ने इस बात से इनकार किया है कि म्यांमार में मुसलमान अल्पसंख्यक समुदाय को मिटाने की कोशिश हुई है.

बीबीसी से एक्सक्लूज़िव बातचीत में उन्होंने माना कि रखाइन प्रांत में समस्याएँ हैं जहाँ रोहिंग्या समुदाय के लोग रहते है. लेकिन उन्होंने कहा कि 'एथनिक क्लिज़िंग' शब्द का इस्तेमाल करना ठीक नहीं होगा.

सू ची के ख़िलाफ़ क्यों हैं 13 नोबेल विजेता?

म्यांमारः कहां गया शांति का वादा

आंग सांग सू ची ने कहा कि उनका देश ऐसे रोहिंग्या मुसलमानों का स्वागत करेगा जो लौटना चाहते हैं.

बीबीसी संवाददाता फर्गल कीन से बातचीत में उन्होंने कहा, "लोगों के बीच काफ़ी वैमन्सय है. मुसलमान भी मुसलमानों को मार रहे हैं. ये सिर्फ़ किसी एक समुदाय को ख़त्म करने की बात नहीं है जैसा कि आप कह रहे हैं. लोग बंटे हुए हैं और हम इन दूरियों को पाटने की कोशिश कर रहे हैं."

छवि को नुकसान

इमेज कॉपीरइट Reuters

कई लोगों का मानना है कि रोहिंग्या मुसलमानों पर आंग सांग सूची की चुप्पी ने उनकी छवि को नुकसान पहुँचाया है जो उन्होंने दशकों के संघर्ष के बाद बनाई थी.

रखाइन प्रांत में म्यांमार सरकार के अभियान के बाद आंग सांग सूची पर अंतरराष्ट्रीय दवाब बढ़ा है.

सेना पर आरोप है कि वो रोहिंग्य समुदाय को निशाना बना रही है और उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है और बलात्कार किया जा रहा है.

अनुमान के मुताबिक करीब 70 हज़ार लोग बांग्लादेश भाग गए हैं. संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि वो मानवाधिकारों के कथित हनन के मामलों की जाँच करेगा.

'गांधी सुलझे नेता'

इमेज कॉपीरइट EPA

बीबीसी से बातचीत में आंग सांग सू ची ने कहा, "मैं मार्ग्रेट थैचर नहीं हूँ और न ही मदर टेरेसा हूँ. हाँ गांधी बहुत ही सुलझे हुए राजनेता था."

जब उनसे पूछा गया कि अपनी सुरक्षा ताक पर रखकर अल्पसंख्यकों के लिए खड़े होने वाले गांधी के नक्शे कदम पर वो चलना चाहेंगी तो उनका कहना था, "अपनी जान जोखिम में डालने वाली बात शायद मैं न करना चाहूँ लेकिन इतना कह सकती हूँ कि हम उनके ऊँचे उसूलों वाले मानक तक पहुँचने की कोशिश कर सकते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे