तुर्की: 'सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल हुआ'

इमेज कॉपीरइट EPA

तुर्की का कहना है कि मंगलवार को सीरिया में हमले के बाद पीड़ितों के शरीर की जांच से इस बात की पुष्टी होती है कि वहां रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल हुआ था.

तुर्की के स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक़ जिस तत्व का इस्तेमाल किया गया वो संभवत: सैरिन था.

तुर्की के क़ानून मंत्री बेकिर बोज़्दा ने कहा कि राष्ट्रपति बशर-अल-असद की सेना इसके लिए ज़िम्मेदार है. लेकिन उन्होने ऐसा कोई विवरण नहीं दिया जिससे सीरियाई सरकार और रुसी गठबंधन के दिए ब्यौरे का खंडन किया जा सके.

रूस ने रासायनिक हमले को लेकर सीरियाई सरकार पर लगे आरोप को ख़ारिज किया है.

ब्रिटेन में स्थित मॉनिटरिंग समूह द सीरियन ऑब्ज़र्वेटरी फ़ॉर ह्यूमन राइट्स के मुताबिक़ मंगलवार को ख़ान शेखौन में हुए हमले में 20 बच्चे और 52 वयस्कों की मौत हो गई थी.

रासायनिक हमला: यूएन की आपात बैठक में 'सीरिया की निंदा'

सीरिया में 'रासायनिक हमले' के पीछे असद: अमरीका

इमेज कॉपीरइट Reuters

ट्रंप ने कहा 'मानवता का अपमान''

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने उत्तरी सीरिया में हुए रासायनिक हमले में कई लोगों के मारे जाने की निंदा की है.

ट्रंप ने कहा कि ये ''मनवता का अपमान'' है. उन्होने कहा, ''जब आप मासूम बच्चों को मारते हैं तो आप कई हदें पार कर देते हैं.''

इमेज कॉपीरइट Reuters

लेकिन संयुक्त राष्ट्र में अमरीका की राजदूत निकी हेली ने सीरियाई सरकार पर लगाम कसने में नाकाम रहने के लिए रूस की कड़ी आलोचना की है.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अपने भावुक भाषण में निकी हेली ने सवाल किया," रूस इस बारे में सोचे कि कितने और बच्चों को मरना होगा?"

इमेज कॉपीरइट AFP

रूस ने दिया सीरिया का साथ

सीरिया में चल रहे गृह युद्ध में रूस सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद का सहयोगी है और सीरियाई सेना का समर्थन कर रहा है.

संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत ने कहा है कि ये जानलेवा गैस तब लीक हुई जब सीरयाई हवाई हमले के दौरान विद्रोहियों के एक ठिकाने पर बमबारी की गई जहां रासायनिक हथियार रखे गए थे.

सीरिया में छह साल से ज़्यादा समय से गृह युद्ध चल रहा है जिसमें ढाई लाख से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और अब भी किसी राजनीतिक समाधान के आसार नज़र नहीं आ रहे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे