ऐसे विज्ञापन जिनसे लोग हो गए नाराज़

  • 8 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट PEPSI

दुनियाभर में मशहूर कंपनी पेप्सी के एक विज्ञापन ने बहुत से लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा.

इसमें अमरीकी टीवी स्टार और मॉडल केंडाल जेनर एक प्रदर्शन में शामिल होने के लिए फ़ोटोशूट छोड़ देती हैं. विज्ञापन में प्रदर्शन के लिए पुलिस बल का भारी इंतजाम दिखाया गया है.

गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप का विज्ञापन अख़बारों में

पियर्स ब्रॉसनन पान मसाले के विज्ञापन में

अपना तनाव दूर करने के लिए वो टहलते हुए पुलिसलाइन की ओर जाती हैं और एक पुलिस वाले को पेप्सी का एक केन थमाती हैं. यह देखकर लोग ताली बजाने लगते हैं.

विज्ञापन के सामने आने के बाद लोगों ने आरोप लगाया कि इसमें हाल के दिनों में अमरीकी सड़कों पर हुए विरोध-प्रदर्शनों को कमतर बताने की कोशिश की गई है. इन आलोचनाओं के बाद पेप्सी ने विज्ञापन को वापस लेकर माफ़ी मांगी.

पान मसाला के विज्ञापन पर 'जेम्स बांड' की माफ़ी

लेकिन पेप्सी अकेली कंपनी नहीं है जिसको अपने ख़राब विज्ञापनों के लिए आलोचना का सामना करना पड़ा. आइए हम आपको बताते हैं कुछ ऐसे ही विज्ञापनों के बारे में.

सफ़ेद ही पवित्र है

इमेज कॉपीरइट NIVEA FACEBOOK

त्वचा की देखभाल के लिए क्रीम बनाने वाली जर्मन कंपनी नीविया को अपने एक डियोड्रेंट के लिए माफ़ी मांगनी पड़ी. इस डियोड्रेंट की कैच लाइन थी, 'ह्वाइट इज प्युरिटी' यानी कि सफ़ेद ही पवित्रता है.

लोगों ने नीविया के इस विज्ञापन को भेदभाव वाला और असंवेदनशील बताया.

वहीं ब्रिटेन के को-ऑप सुपरमार्किट को उसके ईस्टर चाकलेट अंडे के विज्ञापन को लोगों ने लैंगिक भेदभाव वाला बताया. इस विज्ञापन में बर्तन धोने के लिए लाड़-प्यार करने को कहा गया था.

समलैंगिकता पर हमला

इमेज कॉपीरइट AMV BBDO

स्नीकर चॉकलेट बार के एक टीवी विज्ञापन को भी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा. इस विज्ञापन के मिस्टर मैगनस (जिन्हें ब्रिगेड ए के नाम से भी मशहूर हैं) पर समलैंगिकता का अपमना करने का आरोप लगा.

इस विज्ञापन में वो पीले रंग शार्ट्स पहने और तेज़ी से चल रहे पुरुषों पर स्नीकर चॉकलेट बार की फायरिंग करते नज़र आ रहे थे. इसमें वो कहते हैं, '' तुम लोग पुरुष जाति के लिए कलंक हो. यह एक सच्चे मर्द के जैसा दौड़ने का समय है.''

इस विज्ञापन की काफी आलोचना हुई. इस पर स्नीकर बनाने वाली कंपनी मार्स ने घोषणा की कि उसके विज्ञापन केवल मजाक के लिए था. लेकिन उसने यह भी कहा कि यह मजाक बहुत व्यक्तिपरक था.

फ़ुटबाल का विश्वकप

इमेज कॉपीरइट Reuters

वहीं सिंगापुर में एक विज्ञापन का इतना मज़ाक उड़ाया गया कि उसे हाल ऑफ़ शेम में शामिल होने लायक बताया गया.

यह विज्ञापन 2014 में आयोजित फ़ीफ़ा विश्वकप फ़ुटबॉल के समय जारी किया गया था. इसमें एक बच्चा अपने दोस्त से कहता है कि उसके पिता ने उसकी सारी जमा पूंजी को विश्वकप में जर्मनी की जीत पर दांव पर लगा दिया है.

जिस समय यह विज्ञापन आया उस समय तक जर्मनी विश्वकप फुटबॉल जीत चुकी थी. हालांकि मजाक उड़ता देख सिंगापुर के अधिकारियों ने उसे सुधारने की कोशिश तो की. लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी.

पोप का किस

इमेज कॉपीरइट BENETTON

रेडिमेड कपड़े बनाने वाली इतालवी कंपनी बेनेटन का 2011 में शुरू किया गया अभियान 'अनहेट', अभी भी जारी है. जब यह अभियान शुरू किया गया था तो इसका इरादा बहुत ही नेक था.

लेकिन इसकी एक तस्वीर ने विवाद पैदा कर दिया. इस तस्वीर में पोप बेनडिक्ट सोलहवें मिस्र के एक इमाम को चूमते हुए नज़र आ रहे थे. इस तस्वीर को देखकर वेटिकन ने कानूनी कार्रवाई की धमकी दी. इस पर बेनेटन ने तस्वीर को वापस ले लिया.

वेटिकन ने एक बयान में कहा कि यह विज्ञापन न केवल पोप और कैथोलिक चर्च की गरिमा को नुक़सान पहुंचाने वाला है, बल्कि उनको मानने वालों की भावनाओं को भी नुकसान पहुंचाने वाला है.

लेकिन व्हाइट हाउस की आपत्ति के बाद भी बेनेटन ने तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा की एक तस्वीर को इस अभियान से नहीं हटाया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे