भद्रक में साम्प्रदायिक हिंसा, 35 लोग गिरफ़्तार

  • 8 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Biswaranjan Mishra

सोशल मीडिया पर राम और सीता के बारे में कथित तौर पर आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद ओडिशा के भद्रक शहर में गुरुवार से शुरू हुई साम्प्रदायिक हिंसा अब भी जारी है.

शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है और स्कूल कॉलेजों को बंद कर दिया गया है.

सुप्रिटेंडेंट ऑफ़ पुलिस दिलीप कुमार दास ने कहा है कि पुलिस ने हिंसा में शामिल 35 लोगों को गिरफ़्तार किया है और स्थिति को नियंत्रण में लाने की कोशिश हो रही है.

हिंसा और आगजनी में अभी तक किसी की जान नहीं गई है, लेकिन जगह जगह लूट और आगजनी की घटनाएं जारी हैं.

कई घरों और दुकानों को जलाने की ख़बर है. शहर में शांति बनाए रखने के लिए 35 प्लाटून पुलिस बल तैनात किए गए हैं.

संवेदनशील इलाकों में सशस्त्र पुलिस के दस्ते गश्त लगा रहे हैं. शुक्रवार शाम से जारी कर्फ्यू की अवधि बढ़ाकर शनिवार छह बजे तक कर दी गई है.

इमेज कॉपीरइट Biswaranjan Mishra

राज्य के महानिदेशक केबी सिंह का कहना है कि 'स्थिति काबू' में है.

शहर में बिगड़ते हालात के मद्देनज़र महानिदेशक और गृह सचिव असित त्रिपाठी शुक्रवार शाम से ही भद्रक में डेरा डाले हुए हैं.

भद्रक से केबी सिंह ने बीबीसी को बताया, "कुछ छिटपुट लूटपाट की घटनाएं हो रहीं हैं, लेकिन कहीं से भी गुटों के बीच लड़ाई की कोई ख़बर नहीं है."

भद्रक में 31 मार्च से जिलाधीश का पद खाली था, जिसे शुक्रवार को कटक म्युनिसिपल कार्पोरेशन के कमिश्नर ज्ञान रंजन दास को आनन-फानन में नियुक्त कर भरा गया.

नवीन पटनायक सरकार ने उन्हें तत्काल मोर्चा संभालने के आदेश दिए. वो शुक्रवार रात भद्रक पहुँच कर अपनी ज़िम्मेदारी संभाल चुके हैं.

शहर में सभी स्कूलों और कॉलेजों को बुधवार तक बंद कर दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट Biswaranjan Mishra

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक सहित कई विशिष्ट लोगों ने जनता से शहर में शांति बनाए रखने की अपील की है.

भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की भुवनेश्वर में 15 और 16 अप्रैल को बैठक होने वाली है.

कहा जा रहा है कि इसी बैठक में 2019 के विधानसभा चुनावों में बीजेपी की जीत का ख़ाका तैयार किया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट OTV

कुछ लोगों का ये भी कहना है कि भद्रक की घटना राज्य में साम्प्रदायिक तापमान बढ़ाने वाली साबित हो सकती है, जिससे आने वाले समय में ध्रुवीकरण तेज होगा, जो कि बीजेपी के चुनावी अभियान के अनुकूल साबित हो सकता है.

ओडिशा में दंगे या साम्प्रदायिक हिंसा की घटनाएं कम ही होती हैं क्योंकि मिश्रित आबादी वाले इलाक़े बहुत कम हैं.

भद्रक ओडिशा के उन चुनिंदा शहरों में से एक है, जहां मुस्लिम समुदाय के लोग काफ़ी संख्या में है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे