एक महिला साइकिल पर अकेले गई लंदन से तेहरान

इमेज कॉपीरइट REBECCA ROWE

रेबेका लास ने अपने काम से छुट्टी लेकर ब्रिटेन से ईरान तक की क़रीब सात हज़ार किमी की यात्रा साइकिल पर पूरी की.

इस यात्रा के बाद रेबेका ने बीबीसी पर एक लेख लिखा 'पूरे मध्य-पूर्व में एक महिला की अकेले साइकिल यात्रा करना मूर्खता होगी.' उनके इस लेख को लोगों ने काफी पसंद किया.

आइए देखते हुए रेबेका की लंदन से तेहरान तक की इस यात्रा को तस्वीरों के ज़रिए.

इमेज कॉपीरइट REBECCA LOWE

अपनी इस यात्रा के दौरान वो मांटेनेग्रो और अल्बानिया की सीमा पर स्थित प्रोकेलटीज पहाड़ी से होकर भी गुजरीं. वो कहती हैं कि यहां की चढ़ाई ने तो उन्हें एक तरह से मार ही दिया था.

इमेज कॉपीरइट Rebecca Lowe

रेबेका की साइकिल तुर्की के टोरस पहाड़ी से गुजरते हुए पंचर हो गई.

इमेज कॉपीरइट Rebecca Lowe

सूडान के सहारा के 40 डिग्री सेल्सियस तापमान में भुन जाना जैसे था. रेबेका कहती हैं, 'एक जगह मैं बिना पानी के चलती रही. इससे मेरे शरीर में पानी की कमी हो गई. ऐसे में उत्तरी सूडान में नील नदी के किनारे रहने वाले परिवार ने मेरी देखभाल की.'

इमेज कॉपीरइट REBECCA LOWE

लेबनान के बेक्का घाटी में सीरिया की सीमा के पास स्थित एक सीरियाई शरणार्थी शिविर के अधिकांश टेंट बर्फ और बारिश की वजह से खराब हो गए हैं. एक टेंट में दस-दस लोग तक रहते हैं.

इमेज कॉपीरइट REBECCA LOWE

अम्मान और जार्डन के बीच बनी पक्की सड़क.

इमेज कॉपीरइट REBECCA LOWE

सूडान के खारतूम के ऊंट बाज़ार के दुकानदार. हफ़्ते में दो दिन लगने वाले बाज़ार में क़रीब 350 ऊंट बिक जाते हैं. यहां ऊंटों का गोश्त खाया जाता है.

इमेज कॉपीरइट REBECCA LOWE

खारतूम में सड़कों के किनारे चाय बेचने वाली इन महिलाओं को अक्सर भेदभाव और पुलिस उत्पीड़न से जूझना होता है.

अवादिया महमूद (दाहिने) को चाय कोऑपरेटिव बनाने के लिए 2016 में यूएस इंटरनेशनल वुमेन ऑफ करेज का पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

इमेज कॉपीरइट REBECCA LOWE

ईरान की बांद्री शिया महिलाएं अपने चेहरे को ढंकने के लिए एक कढ़ाईदार कपड़ा लगाती हैं.

इमेज कॉपीरइट REBECCA LOWE

रेबेका की साइकिल ईरानी पहाड़ों के बीच पंचर हो गई. ऐसे में कुछ भेड़ पालकों ने उनकी मदद की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे