भारत के कथित जासूस कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में मौत की सज़ा

इमेज कॉपीरइट Others

पाकिस्तान में भारत के कथित जासूस कुलभूषण सुधीर जाधव को मौत की सज़ा सुनाई गई है.

पाकिस्तान का दावा है कि कुलभूषण जाधव भारतीय ख़ुफ़िया एजेंसी रॉ के एजेंट हैं.

कुलभूषण जाधव को तीन मार्च, 2016 को बलूचिस्तान में गिरफ़्तार किया गया था. पाकिस्तान में उन पर जासूसी करने का आरोप लगा था.

'भारतीय नागरिक को प्रताड़ित कर रहा है पाक'

'कच्ची गोलियां खेलने वालों ने जासूसी कहानी गढ़ी'

इसके बाद उनपर पाकिस्तानी सेना एक्ट के तहत फ़ील्ड जेनरल कोर्ट मार्शल किया गया. इसमें कुलभूषण पर लगे आरोपों को सही पाया गया है.

पाकिस्तान के आर्मी चीफ़ जेनरल क़मर जावेद बाजवा ने कुलभूषण को मौत की सज़ा दिए जाने की पुष्टि की है. ये भी बताया गया है कि कुलभूषण जाधव को अपने बचाव के लिए क़ानूनी सहायता उपलब्ध कराई गई थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि भारत ने तब पाकिस्तान के आरोपों को ठुकरा दिया था. तब भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया था, "हमारी जांच से पता चला है कि भारतीय नागरिक को प्रताड़ित किया जा रहा है जो ईरान से क़ानूनी तरीके से अपना कारोबार चला रहा था. हम उसके अपहरण की संभावना से इनकार नहीं कर सकते."

मंत्रालय के मुताबिक़ ये आरोप पूरी बेबुनियाद है कि ये व्यक्ति भारत सरकार के कहने पर विध्वंसकारी गतिविधियों में शामिल था.

'ऐसे काम करते हैं रॉ और आईएसआई के एजेंट'

पाकिस्तान ने अपने आरोप के सबूत में सेना और सरकार की एक साझा प्रेस कांफ्रेस में कुलभूषण जाधव नाम के इस कथित एजेंट का एक वीडियो दिखाया था.

वीडियो में इस शख़्स ने ख़ुद को भारतीय नौसेना का मौजूदा अधिकारी और भारतीय खुफ़िया एजेंसी रॉ का सदस्य बताया था.

इमेज कॉपीरइट MEA INDIA

लेकिन भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था, "गिरफ़्तार व्यक्ति के बयानों से साफ़ संकेत मिलता है कि उससे ये बयान दिलवाए गए हैं और हम उसकी सलामती को लेकर चिंतित हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे