जहाँ फाँसी के समय लोगों को बतौर दर्शक बुलाया जाता है

  • 11 अप्रैल 2017
टेरेसा क्लार्क और उनके पति लैरी क्लार्क इमेज कॉपीरइट TERESA CLARCK FACEBOOK

क्या आप किसी को मरते हुए देखना पसंद करेंगे?

ये सवाल आपको अजीब लग सकता है लेकिन कई ऐसे लोग हैं जो फांसी पर लटकते हुए लोगों को देखने के लिए खुद जाते हैं.

टेरेसा क्लार्क और उनके पति लैरी क्लार्क ऐसी ही एक दंपत्ति है जो पिछले कुछ सालों में कई लोगों को फांसी लगते हुए देख चुके हैं.

टेरेसा के पति लैरी फांसी की सज़ा देखने पहली बार अकेले गए थे और आने के बाद उन्होंने टेरेसा से कहा , 'ये देखने लायक चीज़ है'

टेरेसा 1998 में पहली बार फांसी देखने गई. फांसी दी जा रही थी एक अपराधी डगलस बुकानन जूनियर को जिन पर अपने पिता, सौतेली मां और दो सौतेले भाईयों की हत्या का आरोप सिद्ध हुआ था.

ऐसा नहीं है कि टेरेसा और लैरी को फांसी देखने में आनंद आता है. लैरी और टेरेसा जैसे लोग कानून की ज़रूरत है. अमरीका के कई राज्यों में कानून के अनुसार किसी भी फांसी की सज़ा में आम लोगों का होना ज़रूरी है और इसके बिना फांसी की सज़ा नहीं दी सकती है.

दिक्कत ये है कि फांसी देखने के लिए कम ही लोग राज़ी होते हैं.

जॉर्डन में चरमपंथी हमलों के लिए 10 को फांसी

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
फांसी के बाद बरी

कैसे होती है फांसी

टेरेसा बताती हैं कि बुकानन की फांसी के दिन उन्हें समय से पहले जेल ले जाया गया. थोड़ी देर एक कमरे में गुजारने के बाद उन्हें उस जगह पर ले जाया गया जहां फांसी होनी थी.

वो कहती हैं, 'उस कमरे में बहुत रोशनी थी और एक बहुत बड़ी खिड़की थी. पर्दा हटा तो बुकानन आए. बुकानन से पूछा गया कि क्या आप आखिरी बार कुछ कहना चाहेंगे तो बुकानन ने कहा- यात्रा शुरु करो. मैं जाने के लिए तैयार हूं'

टेरेसा बताती हैं कि फांसी के समय कैदी सीधे वहीं देखते हैं जहां आम लोग बैठते हैं. यानी टेरेसा और लैरी जैसे लोग.

वो कहती हैं, ''अजीब सी फीलिंग होती है. मरता हुआ आदमी आपको घूर रहा होता है.''

ऐसे मृत्युदंड देखने का क्या कोई असर होता है. टेरेसा कहती हैं, ''जब मैं पहली बार ये देख कर आई तो गाड़ी लाल बत्ती पर खड़ी थी और मैंने रेयर विंडो में उस आदमी को देखा जो अभी अभी मेरे सामने मरा था.''

फांसी के बाद डॉक्टर कैदी को मृत घोषित करता है और गवाहों को शुक्रिया अदा किया जाता है.

क्यों है ख़बरों में ऐसे लोग

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले दिनों अराकांसास राज्य के न्याय विभाग ने अपील जारी की थी कि फांसी सुनिश्चित करने के लिए गवाहों की कमी पड़ रही है. राज्य में 11 दिन में आठ कैदियों को फांसी दी जानी थी.

राज्य के नियम के अनुसार एक फांसी में कम से कम छह सम्मानित नागरिकों की उपस्थिति अनिवार्य है ताकि ये सुनिश्चित हो कि फांसी सही तरीके से दी गई है.

इस अपील के बाद कई लोग आगे आए हैं और उनका कहना है कि वो ऐसा कर के कानून की मदद कर रहे हैं.

बुजुर्ग वालयंटियर

77 साल के फ्रैंक वेईलैंड अब तक चार फांसियां देख चुके हैं.

2006 में फ्रैंक ने आखिरी बार किसी को मृत्युदंड दिए जाते हुए देखा था. कैदी थे ब्रैंडन हेडरिक. हेडरिक के पास दो विकल्प थे- जृहरीली सुई से मौत या फिर इलेक्ट्रिक चेयर.

फ्रैंक बताते हैं, ''मैं जहां रहता हूं हेडरिक वहीं आसपास ही रहते थे. मेरे कुछ परिचित उसे जानते भी थे. पुलिस के अनुसार हेडरिक को सुई से डर लगता था.''

वो बताते हैं कि पहले हेडरिक को चेयर पर बैठाया गया फिर सर में स्पंज लगाए गए ताकि इलेक्ट्रिक करंट तेजी से गुजरे. उसके बाद..बस बूम.

फ्रैंक कहते हैं, ''हेडरिक के हाथ चेयर से बंधे थे. मुझे लगा कि वो कुर्सी को पकड़ेगा. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. बस छोटी सी आवाज़ हुई.अगर मुझे मरना हुआ तो मैं इलेक्ट्रिक चेयर का विकल्प ही लूंगा.''

अपने अनुभव के बारे में फ्रैंक यही कहते हैं, ''मैं अपने दिमाग में पूरी घटना को रिप्ले करता हूं. पता नहीं क्यों बस मैंने ऐसा कई बार किया है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे