पाकिस्तान: कुलभूषण से पहले भारत के कितने 'जासूस'

कुलभूषण यादव इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान में पिछले दिनों कथित भारतीय जासूस कुलभूषण जाधव को एक फ़ौजी कोर्ट ने मौत की सज़ा सुनाई.

लेकिन वह पहले ऐसे भारतीय नागरिक नहीं हैं जिन्हें जासूसी के आरोप में पाकिस्तान में सज़ा सुनाई गई है.

हालांकि वो शायद भारतीय सेना के पहले अधिकारी थे जो जासूसी के आरोप में गिरफ़्तार हुए.

पाकिस्तान में पिछले चार दशकों में एक दर्जन से अधिक ऐसे लोगों को सज़ा हुई है जिन्हें कथित तौर पर भारतीय जासूस समझा जाता है.

इनमें कुछ को मौत की सज़ा सुनाई गई, लेकिन उनकी सज़ा पर कभी अमल नहीं किया गया. अलबत्ता उनमें कई लोग जेल में ही 'मार दिए' गए.

कुलभूषण जाधव के बारे में जो अभी तक पता है

'कुलभूषण को बचाने के लिए भारत कुछ भी करेगा'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कुलभूषण जाधव

पाकिस्तान ने मार्च, 2016 में कुलभूषण जाधव की गिरफ़्तारी की ख़बर के साथ कथित इकबालिया बयान वाला एक वीडियो भी जारी किया.

वीडियो में कुलभूषण कथित तौर पर कहते हैं कि वे भारतीय नौसेना के सेवारत अधिकारी हैं और बलूचिस्तान में उनके आने का मकसद बलूच अलगाववादियों को भारत की मदद पहुंचाना था.

रिपोर्टों के अनुसार कुलभूषण जाधव ने पाकिस्तान में अपना नाम हुसैन मुबारक पटेल रखा था और वे बलूचिस्तान में ईरान की सीमा से दाखिल हुए थे.

पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव की गिरफ़्तारी के बाद ईरान से मांग की थी कि वह अपनी धरती को पाकिस्तान के ख़िलाफ़ इस्तेमाल न होने दे.

कुलभूषण जाधव शायद पहले ऐसे भारतीय 'जासूस' थे जो पंजाब से बाहर पकड़े गए. अतीत में कई बार भारतीय नागरिक पंजाब के विभिन्न क्षेत्रों से गिरफ्तार हुए हैं और उनमें से अधिकांश का संबंध भारतीय पंजाब से था.

भारत के कथित जासूस कुलभूषण जाधव को मौत की सज़ा

'पाक लादेन को छिपाता है और निर्दोषों को फाँसी देता है'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सरबजीत सिंह

सरबजीत सिंह को पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसियों ने अगस्त 1990 में गिरफ़्तार किया था.

भारत का कहना था कि नशे में धुत एक पंजाबी किसान खेतों में हल चलाते हुए ग़लती से सीमा पार कर गया था.

पाकिस्तान ने सरबजीत सिंह के ख़िलाफ़ फ़ैसलाबाद, मुल्तान और लाहौर में धमाकों के आरोप में मुकदमा चलाया और उन्हें मौत की सज़ा सुनाई गई.

सैन्य शासक परवेज़ मुशर्रफ़ के कार्यकाल के दौरान जब भारत-पाकिस्तान के बीच समग्र वार्ता का सिलसिला जारी था, उस समय भारत में कुछ ग़ैर सरकारी संगठनों ने सरबजीत सिंह की रिहाई की मुहिम चलाई.

कई बार ऐसा लगा कि पाकिस्तान सरकार उन्हें रिहा कर देगी, लेकिन वार्ता की विफलता के बाद सरबजीत सिंह की रिहाई भी खटाई में पड़ गई.

सरबजीत 2013 में कोट लखपत जेल में कैदियों के हमले में घायल हो गए और अस्पताल में उनकी मौत हो गई.

सरबजीत के शव को भारत के हवाले किया गया और भारत सरकार ने सरबजीत के पार्थिव शरीर का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया.

'भारत योजना के तहत कश्मीरियों को मार रहा है'

'पाकिस्तान जैसे क़ानून-परस्त देश की आलोचना शोभा नहीं देती'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption कश्मीर सिंह जब तीन दशक पाकिस्तानी जेलों में बिताने के बाद वापस भारत पहुंचे तो उनका भव्य स्वागत किया गया

कश्मीर सिंह

कश्मीर सिंह 1973 में पाकिस्तान में कथित जासूसी के आरोप में गिरफ़्तार हुए. पाकिस्तान की जेलों में 35 साल बिताने के बाद उन्हें 2008 में रिहा किया गया तो भारत में उनका शानदार स्वागत किया गया.

कश्मीर सिंह की रिहाई में मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी की कोशिशों की बड़ी भूमिका थी.

पाकिस्तान में मौजूदगी के दौरान कश्मीर सिंह हमेशा ये कहते रहे कि वो निर्दोष हैं, लेकिन जब वो भारतीय सरजमीं पर पहुंचे तो उन्होंने कथित तौर पर स्वीकार किया कि वो जासूसी के लिए पाकिस्तान गए थे.

'पाक में भारतीय हस्तक्षेप के सुबूत अमरीका को'

'जाधव को मौत की सज़ा सुनियोजित हत्या की कोशिश'

इमेज कॉपीरइट THE TELEGRAPH, INDIA
Image caption रवींद्र कौशिक को भारत में 'ब्लैक टाइगर' के नाम से जाना जाता है

रवींद्र कौशिक

रवींद्र कौशिक एक ऐसे भारतीय नागरिक थे जो 25 साल तक पाकिस्तान में रहे. रवींद्र कौशिक राजस्थान में पैदा हुए थे. जब उन्हें भारतीय कंपनियों ने भर्ती किया तो वह एक थिएटर कलाकार थे.

पाकिस्तान में दावा किया जाता है कि उर्दू भाषा और इस्लाम धर्म के बारे में विशेष शिक्षा के बाद उन्हें नबी अहमद शाकिर नाम से पाकिस्तान भेजा गया और वे बेहद कामयाबी के साथ कराची यूनिवर्सिटी में दाखिला पाने में सफल रहे और सेना में रहे.

रवींद्र कौशिक की गिरफ़्तारी के बाद उन्हें पाकिस्तान की विभिन्न जेलों में सोलह वर्ष तक रखा गया और 2001 में उनकी मौत जेल में हुई.

'भारत कश्मीर से ध्यान हटाना चाहता है'

'नॉन स्टेट एक्टर्स' पर कार्रवाई के लिए पाकिस्तान पर बढ़ा दबाव

इमेज कॉपीरइट NEW18.COM
Image caption रामराज्य पाकिस्तान पहुंचते ही कथित तौर पर ख़ुफ़िया एजेंसियों के हत्थे चढ़ गए

रामराज्य

2004 में कथित तौर पर लाहौर में पकड़े गए रामराज्य शायद एकमात्र ऐसे भारतीय व्यक्ति थे जो 'पाकिस्तान पहुंचते ही गिरफ़्तार हो गए'.

उन्हें छह साल क़ैद की सज़ा हुई और जब वह अपनी सज़ा काटकर वापस भारत पहुंचे तो कहा जाता है कि भारतीय संस्थाओं ने उन्हें पहचानने से इनकार कर दिया.

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption सुरजीत सिंह ने गिरफ्तार होने से पहले पाकिस्तान के कई दौरे किए थे

सुरजीत सिंह

सुरजीत सिंह ने 30 साल पाकिस्तानी जेलों में बिताए.

सुरजीत सिंह को 2012 में लाहौर की कोट लखपत जेल से रिहा किया गया. वह वापस भारत पहुंचे तो कश्मीर सिंह के विपरीत उनका किसी ने स्वागत नहीं किया.

सुरजीत सिंह दावा करते रहे कि वह पाकिस्तान में 'रॉ' के एजेंट बनकर गए थे, लेकिन किसी ने उनकी बात पर यक़ीन नहीं किया.

सुरजीत सिंह ने अपनी रिहाई के बाद बीबीसी संवाददाता गीता पांडे से बात करते हुए भारत सरकार के व्यवहार पर दुख और ग़ुस्से का इज़हार किया था.

उन्होंने कहा कि भारत सरकार उनकी अनुपस्थिति में उनके परिवार को 150 रुपए के मासिक पेंशन का भुगतान करती थी. दावा किया गया कि ये इस बात का सबूत है कि वह 'रॉ' के एजेंट थे. ये भी दावा किया गया कि गिरफ़्तारी से पहले वो 50 बार पाकिस्तान का दौरा कर चुके थे जहां वे दस्तावेज़ हासिल कर कथित तौर पर उन्हें वापस ले जाते थे.

पाक ने 'भारत के दखल' के ख़िलाफ़ सौंपे 'सबूत'

'कश्मीरी पत्थरबाज़ों को मुआवज़ा तो हमें क्यों नहीं'

इमेज कॉपीरइट NEWS18.COM
Image caption गरबखश राम जब अपना समय पाकिस्तान में पूरा करके लौटने लगे तो वे पकड़े गए

गरबखश राम

गरबखश राम को 2006 में 19 अन्य भारतीय कैदियों के साथ कोट लखपत जेल से रिहाई मिली.

गरबखश राम पाकिस्तान में कथित तौर पर शौकत अली के नाम से जाने जाते थे. 18 साल तक पाकिस्तानी जेलों में रहे.

दावा है कि गरबखश राम को 1990 में उस समय गिरफ्तार किया गया था जब वह कई साल पाकिस्तान में बिताने के बाद वापस भारत जा रहे थे, लेकिन पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसियों के हाथ लग गए.

भारतीय अख़बार 'टाइम्स ऑफ़ इंडिया' में प्रकाशित होने वाली एक रिपोर्ट के अनुसार गरबखश राम ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया है कि उन्हें वो सुविधाएं नहीं दी जा रही हैं जो कथित तौर पर सरबजीत के परिवार को मिली हैं.

उनका दावा है कि उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल से भी मुलाकात की, लेकिन उन्हें सरकारी नौकरी नहीं दी गई है.

इमेज कॉपीरइट NEW18.COM
Image caption विनोद सानखी ने पूर्व जासूसों की मदद के लिए संगठन बनाया था

विनोद सानखी

विनोद सानखी 1977 में पाकिस्तान में गिरफ़्तार हुए और 11 साल पाकिस्तानी जेलों में बिताने के बाद उन्हें 1988 में रिहा किया गया.

विनोद सानखी ने भारत में पूर्व जासूसों की भलाई के लिए एक संगठन बनाया था.

अपनी कहानी बताते हुए उन्होंने दावा किया था कि, "वो टैक्सी ड्राइवर थे जब उनकी मुलाकात एक भारतीय जासूस से हुई. उसने उन्हें सरकारी नौकरी की पेशकश की."

उन्हें कथित तौर पर पाकिस्तान भेजा गया, लेकिन जब वह पाकिस्तानी जेल से रिहा हुए तो दावे के अनुसार सरकार ने उनकी मदद नहीं की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे