अफ़ग़ानिस्तान: जलालाबाद में हिंदू और सिख बच्चों के लिए अलग स्कूल

  • 15 अप्रैल 2017
अफ़ग़ानिस्तान इमेज कॉपीरइट BBCpersian

अफ़ग़ानिस्तान के नांगरहार प्रांत में सरकार हिंदू और सिख बच्चों के लिए अलग से पढ़ाई की व्यवस्था कराने जा रही है.

यहां हिंदू और सिख अल्पसंख्यकों ने शिकायत की थी कि उनके बच्चों की पढ़ाई दांव पर लगी है. उनका कहना था कि हिंदुओं और मुसलमानों के बीच धार्मिक फासला ज़्यादा है. ऐसे में क्लासरूम में इन बच्चों को पढ़ाई में काफ़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है.

अफगानिस्तान-पाकिस्तान का झगड़ा क्या है

इमेज कॉपीरइट BBCpersian

इसलिए सरकार ने फ़ैसला किया है कि नांगरहार प्रांत की राजधानी जलालाबाद में अब हिंदू और सिखों के बच्चों के लिए अलग स्कूल होगा. हालांकि जलालाबाद में हिंदू और सिखों की ज़्यादा आबादी नहीं है. नांगरहार के गर्वनर गुलाब मंगल ने इस स्पेशल स्कूल का शिलान्यास किया है. उन्होंने कहा कि अगले छह महीने में इस स्कूल में पढ़ाई शुरू हो जाएगी.

अल्पसंख्यक समुदाय ने बैसाखी त्योहार पर सरकार के इस तोहफे का स्वागत किया है. हिंदू और सिख परिवारों की सरकार से लंबे समय से शिकायत थी कि उनके बच्चे सरकारी स्कूलों में सताए जाते हैं. पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान में सिखों और हिंदुओं के बच्चों के लिए अलग से स्कूल नहीं होने के कारण अशिक्षा की शिकायत तेजी से बढ़ रही थी.

इमेज कॉपीरइट BBCpersian

जलालाबाद में कुछ दशक पहले तक हज़ारों हिंदू और सिख परिवार रहते थे. हालांकि अब यह संख्या 150 परिवारों तक ही सिमटकर रह गई. बीबीसी से आठ साल के एक सिख बच्चे ने कहा कि यहां के सरकारी स्कूल में सिख बच्चों को परेशान किया जाता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे