इवांका ट्रंप-केनेडी का स्कूल और सालों तक यौन शोषण

  • 15 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट wikimedia.org

एक रिपोर्ट के मुताबिक़ अमरीका में एक बड़े बोर्डिंग स्कूल के छात्रों के साथ करीब चार दशक तक स्कूल के 12 कर्मचारियों ने यौन शोषण किया था.

कनेक्टिकट के चोट रोज़मेरी हॉल में अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति जॉन एफ़ केनेडी और अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप जैसी कई बड़ी हस्तियां पढ़ चुकी हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक़ यौन शोषण के आरोप 1960 के दशक के हैं और स्कूल ने इस पर अंदरूनी जांच ही की थी.

स्कूल ने भी यौन शोषण की बात स्वीकार की है और कहा है, "हम गंभीरता से माफ़ी मांगते हैं."

जहां पादरी ही करने लगे बच्चों का यौन शोषण

कौन है '500 बच्चों के यौन शोषण' का अभियुक्त

बच्चों का यौन शोषण

इमेज कॉपीरइट Getty Images

स्कूल का कहना है," इन वयस्कों ने समुदाय की बुनियाद जो कि छात्रों और उनका ध्यान रखने के लिए ज़िम्मेदार वयस्कों के बीच का पवित्र विश्वास है, उसका उल्लंघन किया है."

स्कूल ने यौन शोषण के मामलों पर एक स्वतंत्र जांच कराई थी जिसके बाद ये रिपोर्ट आई है.

इस रिपोर्ट के मुताबिक़ 1980 से दशक में छात्रों से यौन शोषण के सबसे ज़्यादा मामले सामने आए.

स्कूल के वर्तमान शिक्षकों और कर्मचारियों के ख़िलाफ़ यौन शोषण की शिकायतें नहीं हैं.

इंग्लैंड में '1400 बच्चों का यौन शोषण'

अश्लील वीडियो बनानेवाला टीचर गिरफ़्तार

17 साल की छात्रा का बलात्कार

रिपोर्ट के मुताबिक़ 1999 के एक मामले में स्पैनिश भाषा के शिक्षक पर कथित तौर पर एक स्कूल ट्रिप के दौरान विदेश में 17 साल की छात्रा से स्विमिंग पूल में बलात्कार करने का आरोप लगाया गया है.

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि स्कूल ने कई मामलों में जांच को पुलिस तक न ले जाते हुए आंतरिक जांच में तेज़ी से निपटाया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

जबकि चोट के कई छात्रों ने स्कूल में पढ़ते हुए यौन शोषण की बात किसी वयस्क को नहीं बताई थी.

जांच में पाया गया है कि स्कूल को जानकारी थी कि शिक्षक छात्र-छात्राओं के साथ अंतरंग चुंबन और अंतरंग तरीके से छूने जैसी चीज़ें कर रहे थे लेकिन पुलिस में इसकी शिकायत नहीं की गई.

रिपोर्ट के अनुसार जब यौन शोषण में लिप्त किसी शिक्षक को साल के बीच में स्कूल से निकाला जाता तो बाकी शिक्षकों को इसके बारे में बहुत कम जानकारी दी जाती.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे