'इस्लाम की तौहीन के झूठे आरोप पर खामोशी क्यों'
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

'इस्लाम की तौहीन के झूठे आरोप पर खामोशी क्यों'

  • 17 अप्रैल 2017

पाकिस्तान के मरदान शहर के खान अब्दुल वली खान यूनिवर्सिटी के एक 23 वर्षीय छात्र मशाल खान को उसी के साथ पढ़ने वाले छात्रों ने इस शक में मार डाला कि उसने इस्लाम की तौहीन की है. सुनें वुसत का ब्लॉग.

मिलते-जुलते मुद्दे