चुनावी पोस्टर में हिजाब वाला चेहरा पर फ़ोटो नहीं

  • 19 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट HIZB AL ADAL WAL BAYAN

अल्जीरिया की सरकारी मीडिया के अनुसार देश की राजनीतिक पार्टियां इस बात पर राज़ी हो गई हैं कि वो पोस्टर में महिलाओं की तस्वीरें छापेंगी.

वोउज वु आदीज इलाके में पार्टियों ने जो पोस्टर लगाए थे उनमें पुरुष उम्मीदवारों की तस्वीरें थीं जबकि महिलाओं को खाली चेहरों पर हिजाब लपेटे दिखाया गया था.

अधिकारियों ने मंगलवार को इन पार्टियों से कहा था कि या तो वो ये पोस्टर उतारें या इन पर महिला उम्मीदवारों के चित्र लगाएं. इसके लिए पार्टियों को दो दिन का समय दिया था.

ब्रिटेन से ईरान तक की साइकिल यात्रा

तुर्कीः महिला सैनिक पहन सकेंगी हिजाब

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चुनाव पर निगरानी रखने वाले इंडिपेंटेंड हाई ऑथोरिटी के हसन नुई ने कहा, "इस तरह की हरकत ख़तरनाक है. ये ग़ैर-कानूनी है और सभी कानूनों और परंपराओं की अवमामनना है."

उन्होंने कहा, "ये हर नागरिक का अधिकार है कि वो जानें वो किसके लिए वोट कर रहे हैं."

उन्होंने कहा कि सोशलिस्ट फोर्सेस फ्रंट समेत कम से कम पांच पार्टियां ऐसी हैं जिन्होंने पोस्टर पर महिला उम्मीदवारों के चेहरे नहीं दिखाए हैं.

देश के भीतर इसे लेकर बहस छिड़ गई है.

BBC Hindi - अंतरराष्ट्रीय ख़बरें - अल्जीरिया में प्रदर्शनों पर लगी रोक

अल्जीरिया- विमान दुर्घटना में 77 की मौत - BBC हिंदी

इमेज कॉपीरइट EPA

नैशनल फ्रंट फॉर सोशल जस्टिस पार्टी की तरफ से उम्मीदवार फातिमा तिरबख अनाहा ने टेलिवीज़न बहस पर कहा, "मेरा चेहरा दिखाया जाना ज़रूरी है. लेकिन मैं दक्षिणी हिस्से से हूं जो कि रूढ़िवादी इलाका है... यही वजह है कि पोस्टर पर मेरी तस्वीरें नहीं छापी गई हैं."

उन्होंने कहा, "लेकिन सच मानें तो मेरे परिवार में टेलिवीज़न पर मेरी तस्वीर ना दिखाने का दवाब बनाया था. लेकिन किसी पोस्टर पर मेरी तस्वीर से उन्हें कोई ऐतराज़ नहीं है."

फातिमा तिरबख ने ये भी कहा कि उनके परिवार को उनके राजनीति में उतरने और संसद में जनता का नुमांइदा बनने से कोई ऐतराज़ नहीं है.

साल 2012 में आए एक क़ानून के मुताबिक सभी पार्टियों के लिए कम से कम 20 से 50 फ़ीसदी महिला उम्मीदवारों को चुनाव में उतारना अनिवार्य है.

जिसे मां समझती रही, वो उसकी किडनैपर निकली

सैनिकों ने फ़ेसबुक पर डाली महिलाओं की नंगी तस्वीर

इमेज कॉपीरइट EPA

अल्जीरिया एकमात्र देश नहीं जहां संसदीय चुनावों में महिलाओं के चेहरों को छिपा कर पोस्टर पर तस्वीरें छापी गई हैं. साल 2011-12 में मिस्र में सलाफ़ी पार्टियों ने महिलाओं की तस्वीरों की जगह फूलों का इस्तेमाल किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे