ज़िम्बाब्वे: स्कूल फ़ीस में दे सकेंगे बकरी!

  • 20 अप्रैल 2017
बकरी इमेज कॉपीरइट Getty Images

स्कूल फ़ीस के तौर पर अमूमन नकदी या दूसरे कैशलेस विकल्प हर जगह स्वीकार किए जाते हैं.

लेकिन ज़िम्बाब्वे के गरीब अभिभावकों को सरकार ने स्कूल फ़ीस में नकदी के विकल्प की सहूलियत दी है.

इसके तहत नकदी में फ़ीस भर पाने में असमर्थ अभिभावक अब बकरियां या दूसरे पालतू जानवर स्कूलों को दे सकेंगे.

ज़िम्बाब्वे के एक सरकारी मंत्री ने इसकी जानकारी दी है.

देश के सरकार समर्थक अख़बार संडे मेल से ज़िम्बाब्वे के शिक्षा मंत्री लज़ारुस डोकोरा ने कहा है कि अभिभावकों से स्कूल फ़ीस मांगते वक्त स्कूलों को लचीलापन दिखाना होगा.

इमेज कॉपीरइट www.sundaymail.co.zw
Image caption ज़िम्बाब्वे के शिक्षा मंत्री लज़ारुस डोकोरा

उन्होंने कहा कि स्कूलों को न केवल पालतू पशु फ़ीस के रूप में स्वीकार करना चाहिए बल्कि अभिभावकों की सेवाएं या उनके हुनर का भी इस्तेमाल करना चाहिए.

संडे मेल की रिपोर्ट के मुताबिक कुछ स्कूलों ने मंत्री के सुझाव पर अमल शुरू कर दिया है.

लज़ारुस डोकोरा के बयान पर मंत्रालय के एक अधिकारी ने सफाई दी, "संबंधित बच्चों के माता-पिता स्कूल फी के तौर पर पालतू पशु दे सकते हैं. यह सुविधा ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों के लिए है. शहरी क्षेत्र के अभिभावक स्कूल के लिए कुछ काम करके उसकी फी भर सकते हैं."

पिछले हफ्ते जिम्बाब्वे ने लोगों को बैंक लोन चुकाने के लिए गाय, भेड़, बकरी जैसे पालतू पशु स्वीकार करने की इजाजत दी थी.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी न्यूज़ फ़्रॉम एल्सवेयर दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. बीबीसी न्यूज़ फ़्रॉम एल्सवेयर की ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)