... 47 दिन तक चली ज़िंदगी की जंग

  • 27 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट EPA

हिमालय की पहाड़ियों में करीब 47 दिन तक फंसे रहे ताइवान के एक पर्वतारोही को सुरक्षित बचा लिया गया है.

करीब सात हफ्ते तक बाकी दुनिया से कटे रहे इस पर्वतारोही का वजन करीब तीस किलोग्राम कम हो गया. उनके साथ गईं महिला मित्र की मौत हो गई.

21 बरस के लियांग शंग वे नेपाल के डाडिंग ज़िले के टिपलिंग गांव के करीब करीब 26 सौ मीटर की ऊंचाई पर एक दर्रे में फंसे थे.

जब राहत टीम उन्हें निकालने पहुंची तो वो अपनी 19 बरस की महिला मित्र लियू चेन चंग के शव पास थे.

काठमांडू के एक अस्पताल में लियांग का इलाज कर रहे डा. संजय कार्की के मुताबिक, "उन्होंने बताया कि उनकी गर्लफ्रेंड की मौत तीन दिन पहले हुई है."

नेपाल में लापता पूर्व पाकिस्तानी फ़ौजी का सुराग नहीं

रिपोर्टों के मुताबिक सात हफ्ते के दौरान लियांग का वजन करीब 30 किलोग्राम कम हो गया है. हालांकि उनकी हालात ख़तरे से बाहर बताई जा रही है.

ताइवान की एक यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे लियांग और लियू फरवरी में भारत के रास्ते नेपाल आए थे.

इमेज कॉपीरइट AFP/GETTY

उन्हें आखिरी बार नौ मार्च को उत्तरी डाडिंग में देखा गया था जहां ये दोनों भारी हिमपात के बाद भी ट्रेकिंग के लिए गए थे.

जब 10 मार्च को उन्होंने ताइवान फोन नहीं किया तो उनके परिजन चिंतित हो गए और उन्होंने पांच दिन बाद अधिकारियों से उनकी तलाश के लिए अनुरोध किया.

हिमालय की ऊंचाई नापने पर भारत से करार नहीं - नेपाल

बचाव अभियान से जुड़े माधव बसनेट ने बीबीसी को बताया, "ऐसा लगता है कि वो गिरे और गुफा जैसी जगह में फंस गए और दोबारा ऊपर नहीं आ सके."

बीबीसी को मिली जानकारी के मुताबिक गुम हुए पर्वतारोहियों को सबसे पहले स्थानीय लोगों ने देखा. उसके बाद उन्हें बचाने के लिए हेलीकॉप्टर भेजा गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे