प्राचीन शहर अल-हतरा को इस्लामिक स्टेट से छुड़ाया गया

इमेज कॉपीरइट @TEAMSMEDIAWAR

इराक़ के अर्धसैनिक बलों का कहना है कि उन्होंने प्राचीन शहर अल-हतरा को कथित इस्लामिक स्टेट के क़ब्ज़े से छुड़ा लिया है.

माना जा रहा है कि इस्लामिक स्टेट ने इस प्राचीन शहर को तबाह कर दिया है.

सैन्य बलों ने घोषणा की है कि उनके लड़ाकों ने भीषण लड़ाई के बाद यूनेस्को विश्व विरासत स्थलों की सूची में शामिल अल-हतरा पर फिर से नियंत्रण कर लिया है.

सुरक्षा बलों ने जो धुंधली तस्वीर प्रकाशित की है उससे इस प्राचीन शहर को हुए नुक़सान का स्पष्ट अंदाज़ा नहीं लग पा रहा है.

इस्लामिक स्टेट ने उन प्राचीन स्थलों पर बुलडेज़र चलाए हैं जिन्हें वो ग़ैर इस्लामिक मानता है.

प्राचीन स्थलों में लूटपाट भी की गई है.

कुर्द लड़ाकों पर तुर्की के हमलों से अमरीका चिंतित

पल्माइरा इस्लामिक स्टेट से हुआ 'आज़ाद'

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption अल हतरा इराक़ के सबसे अच्छी तरह संरक्षित विरासत स्थलों में से एक था.

यूनेस्को का कहना है कि इराक़ की विरासत को जान बूझकर नुक़सान पहुंचाना युद्ध अपराध है.

शिया नेतृत्व वाले लड़ाकों ने मंगलवार सुबह अल-हतरा को छुड़ाने के लिए लड़ाई छेड़ी थी.

एएफ़पी समाचार सेवा के एक पत्रकार के मुताबिक बुधवार दोपहर तक शिया लड़ाकों ने इस प्राचीन शहर पर नियंत्रण स्थापित कर लिया.

पल्माइरा की अनदेखी तस्वीरें

तस्वीरें पल्माइरा के मंदिर जब सलामत थे

इमेज कॉपीरइट Reuters

2014 में इस्लामिक स्टेट के नियंत्रण में आने से पहले अल-हतरा इराक़ के सबसे संरक्षित प्राचीन स्थलों में से एक था.

राजधानी बग़दाद से 290 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम और मूसल से 110 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित अल-हतरा संभवत ईसा पूर्व दूसरी-तीसरी शताब्दी में बसाया गया था.

शहर के कई मंदिर यूनानी और रोमन वास्तुकला कला में बने थे और इनमें पूर्वी सजावटी विशेषताओं की झलक भी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे