तुर्की तट पर कैसे डूब गया रूस का ख़ुफ़िया जहाज़?

  • 28 अप्रैल 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

रूस का एक ख़ुफ़िया जहाज़ तुर्की के तट के पास एक मालवाहक जहाज से टकराकर डूब गया है.

तुर्की के कोस्टगार्ड के मुताबिक जहाज़ के नाविक दल को बचा लिया गया है.

रुस ने पुष्टि की है कि काले सागर में तैनात उसके बेड़े का हिस्सा रहे लीमान जहाज़ को टकराने के बाद चालक दल के सदस्यों ने तैराए रखने की कोशिशें की थीं.

अभी ये स्पष्ट नहीं है कि टक्कर कैसे हुई. हालांकि इलाके में कोहरा छाया हुआ था.

तुर्की के मीडिया के मुताबिक ये जासूसी जहाज टोगो के एक जहाज़ से टकराया जिसमें जानवर ले जाए जा रहे थे.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक तुर्की के प्रधानमंत्री बिनाली यिल्दिरिम ने रूसी प्रधानमंत्री दिमेत्री मेदवेदेव को इस हादसे के बारे में जानकारी दी है.

काले सागर में रहने वाले रुसी जंगी जहाज़ों का बेड़ा भूमध्यसागर में जाने के लिए बोस्फ़ोरस स्ट्रेट (जलसंधि) से होकर गुज़रता है.

लीमान जहाज़ पर तैनात नाविक दल के सभी 78 सदस्यों को सुरक्षित बचा लिया गया है.

सीरिया में अमरीका और हमले नहीं करेगा: रूस

सीरिया का हवाई कवच मज़बूत करेगा रूस

रिपोर्टों के मुताबिक लीमान जहाज़ तुर्की के काले सागर तट पर किलयोस शहर से करीब 18 किलोमीटर दूर डूबा है.

रूस की समाचार सेवा इंटरफ़ेक्स के मुताबिक ब्लैक सी फ्लीट की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि रूसी दल सभी नियमों का पालन कर रहा था

और संभवतः हादसा दूसरे जहाज़ की वजह से हुआ है.

ब्लैक सी फ़्लीट के पूर्व कमांडर एडमिरल विक्टर क्रावशेन्को ने समाचार एजेंसी इंटरफ़ेक्स से कहा कि ये हादसा असामान्य है.

उन्होंने कहा कि टक्करें होती रही हैं लेकिन उन्हें याद नहीं आता जब कोई जंगी जहाज़ इस तरह डूब गया हो.

रिपोर्टों के मुताबिक मालवाहक जहाज़ को हादसे में मामूली नुकसान हुआ है.

नौसेना के बारे में लिखने वाली एक रुसी वेबसाइट के मुताबिक ये जंगी जहाज़ क्रीमिया के सेवास्तोपोल में तैनात था और दशकों से सीरिया के तारतुस बंदरगाह पर आता जाता रहा था.

1999 में यूगोस्लाविया युद्ध के दौरान जब लीमान जहाज़ को भूमध्यसागर में नैटो की गतिविधियों पर नज़र रखने के लिए तैनात किया गया था तब ये अंतरराष्ट्रीय सुर्ख़ियों में आया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे