चीन: कम्युनिस्ट पार्टी के अधिकारी करते थे दलाई लामा की मदद?

  • 2 मई 2017
इमेज कॉपीरइट Pti

चीन की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ने कहा है कि, "अलगाववादी ताक़तों के ख़िलाफ़ लड़ाई को नज़रअंदाज़ करते हुए पार्टी के अधिकारी ही दलाई लामा को चंदा दे रहे थे."

समाचार एजेंसी पीटीआई ने चीन के सरकारी टैबलॉयड 'ग्लोबल टाइम्स' में मंगलवार को छपी ख़बर के हवाले से कहा है कि एक वरिष्ठ अनुशासन जांच अधिकारी ने 14वें दलाई लामा को कथित रूप से चंदा दिए जाने पर कुछ पार्टी अधिकारियों को फटकारा है.

आख़िर दलाई लामा से इतना क्यों चिढ़ता है चीन?

दलाई लामा की अरुणाचल यात्रा से चीन-भारत रिश्तों को नुकसान हुआ: चीन

तिब्बत में अनुशासन समिति के मुखिया वांग योंगजुन के हवाले से अख़बार ने कहा है कि कुछ पार्टी अधिकारियों ने महत्वपूर्ण राजनीतिक मुद्दों को नज़रअंदाज़ किया है.

'ग्लोबल टाइम्स' सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी का एक टैबलॉयड प्रकाशन है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

इसमें तिब्बत की अनुशासन समिति द्वारा 2016 में जारी किए गए रिपोर्ट का भी हवाला दिया गया है.

इस रिपोर्ट में 2014 में 15 पार्टी अधिकारियों पर विदेश में मौजूद अलगाववादी संगठनों से संबंध रखने के आरोप लगाए गए थे और कहा गया था कि दलाई लामा गुट को उन्होंने 'खुफ़िया जानकारी' दी और 'अलगाववादी गतिविधियों' के लिए धन मुहैया कराया.

हालांकि इसमें अधिकारियों के बारे में जानकारी नहीं दी गई थी.

उल्फ़ा की चेतावनी, 'असम में चीन के ख़िलाफ़ कुछ ना बोलें दलाई लामा'

चीन: कम्युनिस्ट पार्टी के मशहूर मुक़दमे

ये पहली बार हो रहा है कि 1959 में दलाई लामा के भारत जाने के बाद चीन की आधिकारिक मीडिया ने उनके साथ चीनी अधिकारियों के संबंधों पर कुछ बोला है.

'पार्टी की सेंट्रल कमीशन ऑफ़ डिसिप्लिन इंस्पेक्शन एंड मिनिस्ट्री सुपरविज़न' में सोमवार को प्रकाशित एक लेख में वांग ने लिखा है कि कुछ अधिकारियों ने दलाई लामा को अनुदान भी दिए, गैरक़ानूनी गुप्त संगठनों में शामिल रहे और विदेशों में स्थित संगठनों को ख़ुफ़िया जानकारी भी दी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

चीन दलाई लामा को एक राजनीतिक निर्वासित व्यक्ति मानता है, जिन्होंने धर्म की आड़ में चीन से तिब्बत को अलग करने की कोशिश की.

हाल के सालों में 120 तिब्बतियों ने 81 साल के दलाई लामा की वापसी की मांग को लेकर आत्मदाह किए हैं. इसमें अधिकांश भिक्षु थे.

अभी हाल ही में दलाई लामा ने भारत के अरुणाचल प्रदेश की यात्रा की, जिससे चीन और भारत में तनाव पैदा हुआ था. चीन इस इलाके को 'दक्षिणी तिब्बत' बताता रहा है.

चीन ने दलाई लामा की इस यात्रा के ख़िलाफ़ नाराज़गी भी ज़ाहिर की थी और बाद में इसके विरोध में अरुणाचल प्रदेश के छह इलाक़ों के नाम को 'मानकीकरण' का हवाला देते हुए बदल दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे