वो मौत का इंतज़ार कर रहे थे लेकिन...

  • 10 मई 2017
मैथ्यू ब्राएस

"मैं सूरज ढलते हुए देख रहा था, क्योंकि मुझे लग रहा था कि ये मेरी ज़िंदगी की आख़िरी रात है."

ये स्कॉटलैंड में सर्फ़िंग के दौरान हादसे का शिकार होने वाले 23 वर्षीय मैथ्यू ब्राएस के शब्द थे.

ब्राएस ने बीबीसी स्कॉटलैंड की पत्रकार जैकी बर्ड को बताया कि कैसे मौत के 32 घंटों वाले उस दिन की शुरुआत किसी आम दिन की तरह हुई थी.

मैथ्यू कहते हैं कि रविवार की सुबह वह तकरीबन 11 बजे अपने सर्फ़िंग बोर्ड को तैयार कर लहरों के साथ अठखेलियां करने समुद्र में उतरे थे, लेकिन आम दिन की तरह शुरू हुआ ये दिन डरावनी याद के रूप में बदल गया.

समंदर में तैरता ये क़ब्रगाह

कुत्ते को बचाने में डूबा एक परिवार

मैथ्यू कहते हैं, "सर्फ़िंग के दौरान लहरें और हवा इतनी तेज़ थी कि मैं तट से दूर जाने लगा, लहरों की गति देखकर ही मुझे डर लगने लगा."

मैथ्यू अपने सर्फ़िंग बोर्ड के साथ तट की ओर आने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन सारी कोशिशें बेकार थीं.

Image caption सर्फ़िंगके दौरान हादसे का शिकार होने वाले मैथ्यू ब्राएस अपनी मां इज़ाबेल के साथ

एक बार वे कोशिश करते हुए तट से एक मील की दूरी तक पहुंच गए. लेकिन अगले ही पल ज्वार का रुख़ बदल गया.

मछली पकड़ने वाली कुछ नावों को देखकर मैथ्यू को उम्मीद जगी, लेकिन इन मछुआरों ने मैथ्यू की आवाज़ नहीं सुनी.

इसके बाद सूरज ढल गया और वे समुद्र में तट से काफी दूर निकल गए जिससे किसी भी तरह की मदद की गुंजाइश कम हो गई.

शांत समुद्र, ठंडी रात और मौत का इंतज़ार

उस रात के बारे में मैथ्यू कहते हैं, "एक समय के बाद मेरी सारी कोशिशें बेकार साबित होती दिख रही थीं, सर्फ़िंग की कोशिशें भी सिर्फ़ ख़ुद को गर्म रखने के लिए थीं."

वो कहते हैं, "वहां बेहद अकेलापन था, गहरा सन्नाटा. सिर्फ लहरें. कोई हेलिकॉप्टर भी नज़र नहीं आ रहा था. ऐसा लग रहा था जैसे अब मौत सामने है. एक यक़ीन-सा हो गया था. अगले दिन का सूरज देखने की उम्मीद भी खत्म हो चुकी थी. मुझे पता था कि मैं अगली रात ज़िंदा नहीं रहूंगा, इसलिए मैं सूरज को ढलते देख रहा था."

मैथ्यू के मुताबिक उन्हें कुछ जहाज़ दिखाई दिए, लेकिन वे समुद्र के एक ऐसे हिस्से में पहुंच चुके थे जो कोस्ट गार्ड की सीमा से बाहर था और समुद्री जहाज़ों के रास्ते से भी दूर था.

वो पूरी रात अपने सर्फ़िंग बोर्ड के सहारे समुद्री जहाज़ों के रास्ते वाले समुद्री क्षेत्र में पहुंचने की कोशिश करते रहे.

समंदर की लहरों पर कुत्ते की सर्फ़िंग

तस्वीरें समुद्र के नीचे कैसे आती हैं तस्वीरें

फिर आया वो ख़ूबसूरत पल

मैथ्यू की तमाम कोशिशों के बाद भी जब उनकी मदद को कोई नहीं आया तो उन्होंने आस छोड़ दी.

लेकिन तभी उनके ऊपर से एक हेलिकॉप्टर गुज़रा.

हेलिकॉप्टर देखते ही मैथ्यू ने अपने सर्फ़िंग बोर्ड को हिलाना शुरू कर दिया ताकि उन्हें देखा जा सके.

वो बताते हैं कि उन्हें लगा हेलिकॉप्टर ने भी उनकी पुकार नहीं सुनी, लेकिन तभी उन्होंने हेलिकॉप्टर को मुड़ता हुआ देखा.

मैथ्यू कहते हैं, "मैं बयां नहीं कर सकता कि उसे देखना दुनिया की सबसे ख़ूबसूरत चीज़ थी. मेरी ज़िंदगी इन लोगों की कर्ज़दार है."

मां-बाप ने नहीं छोड़ी थी उम्मीद

अस्पताल में काम करने वाले मैथ्यू के पिता जॉन कहते हैं, ''पूरे दिन बेटे की सलामती की दुआ मांगने के बाद भी हमने उम्मीद नहीं छोड़ी थी.''

हालांकि, उन्होंने अपने रिश्तेदार के साथ बेटे के मृत पाए जाने की स्थिति में पहचान करने से संबंधित बातों पर विचार-विमर्श करना शुरू कर दिया था.

Image caption सर्फिंग के दौरान हादसे का शिकार होने वाले मैथ्यू ब्राएस अपनी मां इज़ाबेल के साथ

उनके फ़ोन पर एक कॉल आया तो उन्हें लगा कि ये बुरी ख़बर ही होगी. लेकिन इस कॉल में उनके बेटे के ज़िंदा पाए जाने की ख़बर थी जिसे सुनकर वो रो पड़े.

थोड़ी दूरी पर खड़े उनके दूसरे बेटे और मैथ्यू की मां इज़ाबेल को लगा कि कोई बुरी ख़बर आई है. लेकिन इसके आधे घंटे बाद मैथ्यू से बात करने पर घरवालों ने चैन की सांस ली.

इस पूरी घटना के बाद मैथ्यू ने सर्फ़िंग करने से तौबा कर ली है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे