फ्रांस का नया कानून, बेहद पतली फैशन मॉडल होंगी बैन

  • 6 मई 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images

फ्रांस ने एनोरेक्सिया नाम की बीमारी से लड़ने के लिए एक नया कानून पास किया है. अब फैशन मॉडल्स को एक डॉक्टर से प्रमाणित सर्टिफ़िकेट जमा कराना होगा जिसके तहत उन्हें अपनी सेहत से जुड़ी हर जानकारी देनी होगी. इसमें बॉडी मास इंडेक्स को खास अहमियत दी गई है जो उचित लंबाई और वजन जांचने का तरीका है.

यानी ज़रूरत से ज़्यादा पतली मॉडल अब फ़ैशन इवेंट में हिस्सा नहीं ले पाएंगी.

इसके साथ ही डिजिटली बेहतर बनाई जाने वाली तस्वीरों पर लेबल लगाना जरूरी होगा.

फ्रांस सरकार में सामाजिक मामलों एवं स्वास्थ्य मामलों की मंत्री मैरिसॉल टूअरेन ने इस मुद्दे पर अपना बयान दिया है.

उन्होंने कहा है कि स्टेंडर्ड और झूठी तस्वीरें युवा लोगों को डिप्रेशन का शिकार बनाता है और उनके आत्मविश्वास को चोट पहुंचाती हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस कानून के पुराने संस्करण में मिनिमम बीएमआई का जिक्र था जिसके बाद मॉडल्स ने प्रदर्शन भी किया था.

लेकिन इस बिल में बीएमआई के मामले पर डॉक्टरों को तय करने का अधिकार दिया गया है.

इस कानून का उल्लंघन करने वाली कंपनियों पर 75 हजार यूरो के जुर्माने के साथ-साथ छह महीने तक की जेल हो सकती है.

फ्रांस से पहले इटली, स्पेन और इसराइल भी इस तरह का कानून पास कर चुके हैं.

फ्रांस में एनोरेक्सिया से प्रभावित लोगों की संख्या 30 से 40 हजार के बीच हैं जिसमें से 90 फीसदी महिलाएं हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे