80 लड़कियां बोको हराम की क़ैद से 'आज़ाद'

  • 7 मई 2017
इमेज कॉपीरइट AFP

इस्लामिक चरमपंथी गुट बोको हराम ने उत्तरी-पश्चिम नाइजीरिया से तीन साल पहले अगवा की गई 276 चिबॉक स्कूली लड़कियों में से 80 को रिहा कर दिया है.

ये रिहाई कथित तौर पर सरकार के साथ बातचीत के बाद हुई है, हालांकि कुछ जानकारियों की पुष्टि होना अभी बाक़ी है.

बोको हराम के कब्ज़े से लड़की दो साल बाद छूटी

बोको हराम से लड़ती ये नाइजीरियाई औरत

इमेज कॉपीरइट GETTY AFP

इन लड़कियों के अपहरण के ख़िलाफ़ दुनिया भर में आवाज़ उठी थी और इसे लेकर सोशल मीडिया पर एक बड़ा अभियान शुरू हो गया था.

हालांकि इन 80 लड़कियों की रिहाई के बावजूद 195 लड़कियां अब भी लापता हैं.

बीबीसी सूत्रों के मुताबिक रिहा की गई सभी लड़कियां अब नाइजीरिया की सेना के संरक्षण में हैं.

इन्हें अंदरूनी इलाक़ों से कैमरून सीमा के पास बांकी में सैन्य अड्डे तक सड़क मार्ग से लाया गया था.

इन लड़कियों को उत्तर-पूर्वी शहर चिबॉक के उनके हॉस्टल से अप्रैल 2014 में अगवा किया गया था.

इनमें से 50 उसी वक़्त बचकर भाग निकली थीं और पिछले साल अक्टूबर में रेड क्रॉस से बातचीत के बाद बोको हराम ने 21 लड़कियों को आज़ाद कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट EPA

लागोस में बीबीसी संवाददाता स्टेफनी हेग्रेटी ने बताया कि इस ख़बर के आने के बाद चिबॉक में कई परिवार ख़ुश हैं. लेकिन अभी भी 100 से ज़्यादा लड़कियों चरमपंथियों के क़ब्ज़े में हैं.

पिछले महीने राष्ट्रपति मुहम्मदु बुहारी ने कहा था कि सरकार बाक़ी बची हुई लड़कियों और अन्य अगवा व्यक्तियों को रिहा करने के लिए स्थानीय ख़ुफिया माध्यमों से वार्ता के ज़रिए उनके संपंर्क में है.

ज़्यादातर चिबॉक लड़कियां ईसाई हैं लेकिन क़ैद के दौरान उन्हें इस्लाम धर्म अपना कर अपरणकर्ताओं से शादी करने के लिए कहा गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे