उम्र के मोर्चे पर इकलौते महारथी नहीं हैं मैक्रों

फ्रांस के नव निर्वाचित राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों अपनी उम्र की वजह से भी अंतरराष्ट्रीय मीडिया में ख़ासी सुर्ख़ियां बटोर रहे हैं.

39 साल के इमैनुएल 225 साल के फ़्रांसीसी गणतंत्र के सबसे युवा राष्ट्रपति हैं.

लेकिन जहां तक उम्र की बात है, बड़ी उपलब्धि हासिल करने वाले वह दुनिया के सबसे युवा प्रशासक नहीं हैं. प्राचीन योद्धाओं से लेकर गणतांत्रिक नेताओं तक, मैक्रों के मुक़ाबले कई युवा खड़े हैं. एक नज़र:

1. पिट द यंगर

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पिट द यंगर

नाम में ही बहुत कुछ छिपा है. 1783 में जब विलियम पिट 'द यंगर' ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बने, तब उनकी उम्र महज़ 24 साल थी. वह 1806 में अपनी मौत तक लगभग लगातार इस पद पर रहे.

2. एमिल दिमित्रिदेव

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption एमिल दिमित्रिदेव

अगर मौजूदा समय की बात करें तब भी मैक्रों 40 से कम उम्र के इकलौते वैश्विक नेता नहीं हैं. दक्षिण-पूर्वी यूरोप के देश मेसेडोनिया के प्रधानमंत्री एमिल दिमित्रिदेव 38 साल के हैं. उन्होंने पिछले साल 18 जनवरी को ही पद संभाला था.

3. शेख़ तमीम बिन हमद अल थानी

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption फ्रांस के निवर्तमान राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के साथ शेख़ तमीम

क़तर के मौजूदा और आठवें अमीर शेख़ तमीम बिन हमद अल थानी सिर्फ 36 साल के हैं. वह इससे पहले अमीर रह चुके हमद बिन ख़लीफ़ा अल थानी के चौथे पुत्र हैं.

4. किम जोंग-उन

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption किम जोंग-उन

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन को कैसे भूला जा सकता है, जो सिर्फ 33 साल के हैं. शेख़ तमीम की तरह किम जोंग उन को भी सत्ता विरासत में मिली है.

5. वैनेसा डी एम्ब्रोसियो

इमेज कॉपीरइट GoVERNMENT OF SAN MARINO
Image caption 28 वर्षीय वैनेसा

उत्तर-पूर्वी इटली के पास एक सैन मरीनो नाम का एक छोटा सा देश है. वहां आप 28 वर्षीय वैनेसा डी एम्ब्रोसियो से टकरा सकते हैं. इस गणतंत्र के मुखिया दो प्रशासक कप्तान होते हैं. वैनेसा इनमें से एक हैं और ऐसी उपलब्धि हासिल करने वाली वह अपने देश की दूसरी महिला नेता हैं.

6. सिकंदर

Image caption शॉन कॉनेरी ने नाटक 'एडवेंचर स्टोरी' के बीबीसी रूपांतरण में सिकंदर की भूमिका निभाई थी.

इतिहास के सबसे महान सेनापतियों में से एक सिकंदर तो महज़ 20 साल का था, जब 226 ईसा पूर्व में उसे मेसेडोनिया का ताज़ मिला. फारस राज्य को जीतते हुए वह एक ऐसे साम्राज्य का शासक बन गया जिसका विस्तार तीन महाद्वीपों तक था. उस वक़्त भी वह अपनी उम्र के तीसरे दशक में ही था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे