लंदन पुलिस और भारतीय हैकर्स जाँच के घेरे में

इमेज कॉपीरइट Reuters

दावा किया जा रहा है कि ब्रिटेन में अंडरकवर अधिकारियों ने पत्रकारों और पर्यावरण मामलों से जुड़े कार्यकर्ताओं के ईमेल हैक करने के लिए भारतीय हैकरों की मदद ली है. माना जा रहा है कि इसमें ग्रीनपीस के अकाउंट भी शामिल हो सकते हैं.

वहाँ की पुलिस वॉचडॉग ने लंदन की मेट्रोपॉलिन पुलिस के खिलाफ़ शिकायत के बाद जाँच शुरू की है.

पुलिस वॉचडॉग (इंडिपेंनडेंट पुलिस कॉम्पलेंट्स कमिशन) ने कहा है कि उसे एक अनाम चिट्ठी मिली है जिसमें आरोप लगाया गया है कि पुलिस के आतंकनिरोधी दस्ते ने हैकरों के बारे में जानने के लिए भारतीय पुलिस की मदद ली.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पत्र में ये भी दावा किया गया है कि हैकरों ने हज़ारों लोगों के ईमेल अकाउंट हैक किए जिसमें पत्रकार, राजनीतिक और पर्यावरण मामलों से जुड़े कार्यकर्ता शामिल हैं.

ग्रीनपीस के कार्यकारी निदेशक (यूके) ने जाँच की घोषणा का स्वागत किया है.

उन्होंने कहा, "अगर ये आरोप सच हैं तो लोगों को ये जानने का हक है कि किसने हमारे स्टाफ़ के अकाउंट हैक करने का आदेश दिया. क्यों एक विदेशी कंपनी का इस्तेमाल हैकिंग के लिए किया गया."

वहीं इंडिपेंनडेंट पुलिस कॉम्पलेंट्स कमिशन(आईपीसीसी) की चेयरमैन सारा ग्रीन ने कहा कि ये जटिल जाँच होगी क्योंकि विदेशी एंगल भी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)