कुलभूषण जाधव: 'बेकार जाएगा भारत का अंतरराष्ट्रीय कोर्ट जाना'

  • 12 मई 2017
पाकिस्तान इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption क़ानूनविद बैरिस्टर ख़ालिद जावेद ख़ानने कहा कि अगर पाकिस्तान अदालत के सामने पेश नहीं हुआ तो इससे उसके लिए समस्याएं खड़ी हो सकती हैं'

पाकिस्तान में कथित जासूसी के मामले में कुलभूषण जाधव को दी गई फांसी की सज़ा के ख़िलाफ़ भारत ने अंतरराष्ट्रीय कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है.

इस मामले पर पाकिस्तान के क़ानून विशेषज्ञों का मानना है कि बिना दोनों देशों की सहमति के अंतराराष्ट्रीय कोर्ट से कोई रास्ता नहीं निकल सकता.

जाधव के मामले में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट ने भारत की तरफ़ से दायर याचिका की पुष्टि की है और इस मामले में 15 मई को प्रारंभिक सुनवाई की तारीख़ मुकर्रर की गई है.

17 साल पहले पाकिस्तान भी अंतरराष्ट्रीय अदालत पहुंचा था तब अदालत ने मामला सुनने से इनकार कर दिया था.

इमेज कॉपीरइट AFP

कुलभूषण जाधव की फांसी पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने लगाई 'रोक'

पाकिस्तान में क़ानून विशेषज्ञों का मानना है कि अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के जो भी सदस्य हैं वे अपने मामले को यहां ले जा सकते हैं, लेकिन उसकी सुनवाई संबंधित देश की सहमति पर निर्भर करती है.

पाकिस्तान में सुप्रीम कोर्ट बार के पूर्व अध्यक्ष और प्रतिष्ठित क़ानूनविद अकरम शेख ने बीबीसी उर्दू से कहा, ''कुलभूषण जाधव की सज़ा पर सुनवाई के मामले में अंतरराष्ट्रीय कोर्ट कोई विकल्प नहीं हो सकता.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय अदालत विकल्प तब होता जब दोनों देश समहत होते. शेख ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय अदालत के रुख़ से स्पष्ट है कि जब तक दोनों देश इस पर सहमत नहीं होते हैं तब तक सुनवाई संभव नहीं है.

कौन हैं पाकिस्तान में कैद कुलभूषण जिनकी फांसी की सज़ा की चर्चा है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तानी लेफ्टिनेंट असीम बाजवा कुलभूषण को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए

शेख ने कहा कि 1999 में भारत के लड़ाकू विमान ने पाकिस्तानी नौसेना के एक जहाज को मार गिराया था, जिसमें 16 अधिकारी मारे गए थे. तब पाकिस्तान ने इस मामले को अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में उठाया था.

पाकिस्तान का तर्क था कि भारत ने पाकिस्तान को निहत्थे अधिकारियों को मारा है और यह वैश्विक नियमों को उल्लंघन है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

कुलभूषण मामले पर 15 मई को ICJ में सुनवाई

भारत ने पाकिस्तान की इस अपील को लेकर अतंरराष्ट्रीय कोर्ट के अधिकारक्षेत्र को चुनौती दी थी और कोर्ट की 16 सदस्यीय बेंच ने अपने बँटे हुए फ़ैसले में इस पर सुनवाई नहीं करने का फ़ैसला किया था.

बेंच के 16 सदस्यों में से 14 लोगों ने कहा था कि यह अदालत के अधिकार क्षेत्र से बाहर का मामला है जबकि दो जजों ने सुनवाई करने की बात कही थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अकरम शेख ने कहा, ''कुलभूषण जाधव को जासूसी नहीं आतंकवाद के आरोप में उस देश के क़ानून के मुताबिक सज़ा सुनाई गई है.'' पाकिस्तान के एक और अहम क़ानूनविद बैरिस्टर ख़ालिद जावेद ख़ान ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय कोर्ट इस मामले पर तभी कोई पहल कर सकता है जब दोनों देश इस पर सहमत हों.

हालांकि उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय अदालत के सामने अपना पक्ष रखना होगा. उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान कोर्ट के सामने पेश नहीं हुआ तो समस्या खड़ी हो सकती है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे