कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में सुनवाई शुरू

  • 15 मई 2017
इमेज कॉपीरइट Pti

कुलभूषण जाधव की फांसी को लेकर इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस (आईसीजे) में सुनवाई शुरू हो गई है.

भारत की ओर से पैरवी कर रहे अटार्नी हरीश साल्वे ने अदालत से कहा कि जाधव को उनके अधिकारों से वंचित रखा गया और कोंसुलर उपलब्ध कराए जाने की 16 अपीलों को नज़रअंदाज़ कर वियना संधि का उल्लंघन किया गया.

अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में क्या होगा कुलभूषण जाधव का

कुलभूषण जाधव: 'बेकार जाएगा भारत का अंतरराष्ट्रीय कोर्ट जाना'

पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने कुलभूषण जाधव को जासूसी के आरोप में फांसी की सज़ा सुनाई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, सुनवाई के दौरान भारत ने कहा है कि कुलभूषण जाधव को अपना पक्ष रखने के लिए क़ानूनी अधिकार मिलना चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

वियना संधि के उल्लंघन का आरोप

भारत का पक्ष रखते हुए हरीश साल्वे ने कहा कि कुलभूषण पर उन बयानों के आधार पर आरोप तय किए गए, जो उन्होंने पाकिस्तानी सेना के क़ैद में दिए थे.

उन्होंने कहा कि जाधव को कोंसुलर उलब्ध कराए जाने की सारी कोशिशों को पाकिस्तान ने अनसुना कर दिया.

भारत ने कहा कि उसे डर है, उसके पक्ष को सुनने से पहले ही कुलभूषण को फांसी पर लटका दिया जाएगा.

भारत का कहना है कि पाकिस्तान ने राजयनयिक मामले को लेकर वियना संधि का उल्लंघन किया है.

उसका आरोप है कि कुलभूषण जाधव को काउंसलर उपलब्ध कराए जाने से इनकार कर दिया गया और एकतरफ़ा फ़ैसला सुना दिया गया.

इमेज कॉपीरइट AFP

11 जज कर रहे सुनवाई

भारत चाहता है कि आईसीजे फांसी पर रोक को तबतक जारी रखे जबतक मामले की विधिवत सुनवाई नहीं होती.

भारत आम तौर पर पाकिस्तान के साथ किसी भी मामले को अंतरराष्ट्रीय अदालत तक ले जाने से बचता है, लेकिन कुलभूषण जाधव के मामले में उसने आईसीजे का दरवाजा खटखटाया है.

हेग की अदालत में इस मामले की सुनवाई 11 जज कर रहे हैं.

भारत की दलील पर पाकिस्तान अपना पक्ष भारतीय समयानुसार शाम 6.30 बजे रखेगा.

संयुक्त राष्ट्र की इस संस्था के सामने दोनों देशों को अपना पक्ष रखने के लिए 90-90 मिनट का समय मिलेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे