इस स्कूल में अब लड़के भी पहन पाएंगे स्कर्ट!

  • 16 मई 2017
इमेज कॉपीरइट WESLEY ALLEN

उत्तरी लंदन का एक निजी स्कूल लैंगिक भेदभाव मिटाने के लिए लड़कों को स्कूल यूनिफॉर्म में स्कर्ट पहनने की अनुमति देने की योजना बना रहा है.

हाइगेट स्कूल ने इस बारे में तब विचार शुरू किया जब कई हेड टीचर्स ने कहा कि अपनी लैंगिक पहचान को लेकर सवाल पूछने वाले बच्चों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है.

ये स्कूल जो एक सत्र की 6,790 पाउंड फीस (क़रीब 5.6 लाख रुपए) लेता है, पहले ही यूनीसेक्स शौचालय (यानी लड़के लड़कियों के लिए एक ही शौचालय) और सभी खेल सभी छात्र-छात्राओं के लिए शुरू करने की अनुमति दे चुका है.

सू-सू नहीं जाने दिया, स्कूल चुकाएगा 8.5 करोड़

खतने के डर से स्कूल में ही हैं लड़कियां

इमेज कॉपीरइट Getty Images

छात्रों के सवाल

स्कूल में लड़कियां ग्रे पैंट, गहरी नीली जैकेट और टाई पहन सकती हैं. लेकिन लड़कों को अभी ग्रे प्लेट वाली स्कर्ट पहनने की अनुमति नहीं है, हालांकि ये नए प्रस्तावित ड्रेस कोड में शामिल होंगे.

स्कूल के हेड टीचर एडम पेटिट कहते हैं "हम उनसे पूछ रहे हैं कि क्या इसे यूनिफॉर्म-1 और यूनिफॉर्म-2 कहकर बुलाया जा सकता है."

उन्होंने बताया कि एक सत्र में ए-लेवल के छात्रों के साथ सवाल-जवाब के दौरान लैंगिग भेदभाव हटाने वाली यूनिफॉर्म का मुद्दा सामने आया था.

उन्होने कहा कि ये युवा पीढ़ी सवाल कर रही थी क्या हम सचमुच चीज़ों को दोहरे तौर पर देखते हैं.

एडम कहते हैं, "इसलिए हम जानने की कोशिश कर रहे हैं कि कैसे हमारी यूनीफॉर्म पॉलिसी उन लोगों के लिए तैयार हो सकती है जो एक जैसे मिलते जुलते लगना चाहते हैं, साथ ही जो ऐसे नहीं लगना चाहते."

इमेज कॉपीरइट iStock

क्या ये सोच ग़लत है?

एडम ने कहा, "सभी स्कूलों और युवा संगठनों में एक बात समान है कि अतीत के मुक़ाबले अब बड़ी संख्या में लैंगिक पहचान को लेकर छात्र सवाल उठा रहे हैं."

वो कहते हैं कि "सच तो ये है कि स्कूलों और बाक़ी जगहों पर काफ़ी समर्थन और जानकारी उपलब्ध है, यानी अब युवाओं को अपनी भावनाओं को लेकर सवाल पूछने से डरने की ज़रूरत नहीं है. अगर वो जो हैं उसमें ख़ुश और सुरक्षित हैं, तो ये अच्छी बात है."

एडम का कहना है कि स्कूलों में लड़कों के स्कर्ट पहनने के फ़ैसले से पहले अभिभावकों से विचार-विमर्श किया जाएगा, साथ ही उन्होंने इस बात को स्वीकार किया कि कुछ पूर्व छात्रों ने लिखित में शिकायत की है कि स्कूल एक ग़लत विचारधारा को बढ़ावा दे रहा है."

हाइगेट स्कूल अगले महीने द डेवलपिंग टीनेजर नाम से एक कॉन्फ्रेंस करने जा रहा है जो ये जांच करेगी कि शिक्षक कैसे ट्रांसजेंडर और जेंडर न्यूट्रल छात्रों के मुद्दे उठाते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे