कुलभूषण की फ़ांसी टलेगी या नहीं? फ़ैसला आज

  • 18 मई 2017
Photo इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फ़ांसी टालने को लेकर हेग स्थ‍ित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस यानी आईसीजे आज अपना फैसला सुनाएगा.

भारतीय समय अनुसार दोपहर साढ़े तीन बजे कोर्ट का फ़ैसला आना है. हालांकि यह एक अंतरिम फ़ैसला होगा.

इमेज कॉपीरइट INTERNATIONAL COURT OF JUSTICE

इस फ़ैसले के साथ ही यह ज़रूर साफ़ हो जाएगा कि पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को तुरंत फांसी दे सकता है या नहीं.

बीबीसी संवाददाता हरिता कांडपाल ने अंतरराष्ट्रीय लॉ कमिशन के प्रमुख रहे नरेंदर सिंह से बात की और सबसे पहले पूछा कि आज के फ़ैसले से क्या उम्मीद रखनी चाहिए?

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption कुलभूषण सुधीर जाधव की फ़ाइल फ़ोटो

नरेंदर सिंह के मुताबिक़:

  • इस केस को लेकर भारत सरकार ने वाक़ई तीव्र इच्छा दिखाई है. सरकार इस मामले को लेकर गंभीर दिखती है.
  • कोर्ट में भारत ने मांग रखी है कि सुनवाई पूरी होने तक कुलभूषण की फ़ांसी को रोका जाए. उम्मीद की जा सकती है कि कोर्ट इस मांग को मान लेगा.
  • कोर्ट का जो भी फ़ैसला होगा, वो फ़ैसला पाकिस्तान और भारत, दोनों देशों को ही मानना होगा.
  • आज आ रहे फ़ैसले से कोर्ट यह तय करेगा कि भारत और उसके नागरिक के पास क्या अधिकार हैं?
  • पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के अधिकार क्षेत्र को चुनौती दे रहा है, जिसे लेकर संभवत: अलग से सुनवाई होगी.
  • कोर्ट जब अपना अंतरिम फ़ैसला सुना देगा, तब दोनों देशों के साथ कोर्ट एक मीटिंग कर सकता है. उसमें अधिकार क्षेत्र को लेकर दोनों देशों से सवाल-जवाब होगा और दोनों की सहमति ली जाएगी.
  • फ़ैसले के बाद दोनों देशों के बीच लीगल स्थिति साफ़ हो जाएगी. इससे फ़ायदा यह होगा कि दोनों देशों के बीच झगड़े का कारण ख़त्म हो जाएगा.
  • अगर यह पाया गया कि कुलभूषण का मामला अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के अधिकार क्षेत्र से बाहर का है, तो इस मामले में जीत पाकिस्तान की होगी.
  • जब तक ये स्थितियां साफ़ नहीं हो जाती हैं, तब तक कुलभूषण की फ़ांसी पर रोक लगी रहेगी और पाकिस्तान के हाथ बंधे रहेंगे.

मंगलवार को इंटरनेशनल कोर्ट ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा था, "सोमवार को जाधव मामले में भारत और पाकिस्तान दोनों पक्षों की दलीलें सुन ली गई हैं. अब कोर्ट इस पर विचार विमर्श करेगा."

इंटरनेशनल कोर्ट में भारत की ओर से वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने दलीलें पेश की थीं.

इमेज कॉपीरइट INTERNATIONAL COURT OF JUSTICE
Image caption पाकिस्तान की तरफ से डॉ. मोहम्मद फ़ैसल ने दलीलें पेश की थीं.

उन्होंने कोर्ट में कहा था, "मैं भारत की ओर से यह बताना चाहता हूं कि भारत के 125 करोड़ लोग कुलभूषण जाधव की वापसी की राह देख रहे हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार