जब मोदी ने हसन रूहानी को तोहफ़े में दी रामायण

  • 20 मई 2017
इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption नरेंद्र मोदी और हसन रूहानी

हसन रूहानी दूसरी बार ईरान के राष्ट्रपति चुने गए हैं.

जानकारों के मुताबिक उदारवादी हसन रूहानी की जीत से भारत के साथ उसके रिश्तों को और मजबूती मिलेगी.

रूहानी सुधार और परिवर्तन का वादा लेकर पहली बार 2013 में सत्तासीन हुए.

उनके चार साल के शासनकाल की सबसे बड़ी उपलब्धि ईरान का पश्चिमी देशों के साथ परमाणु समझौता रहा जिसके तहत यूरोप और अमरीका समेत संयुक्त राष्ट्र संघ ने ईरान पर लगे प्रतिबंधों को हटा लिया था.

हसन रूहानी दूसरी बार बने ईरान के राष्ट्रपति

आयतुल्लाह ख़ुमैनी का उत्तर प्रदेश कनेक्शन

इमेज कॉपीरइट PMO INDIA

पिछले साल मई में ईरान की यात्रा पर गए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कहा था कि ईरान के साथ भारत की दोस्ती नई नहीं है और ये मित्रता उतनी ही पुरानी है जितना कि इतिहास.

मोदी ने कहा था कि वो इस बात को कभी नहीं भुला सकते कि गुजरात में 2001 में आए विनाशकारी भूकंप में सबसे पहले मदद का हाथ बढ़ाने वाला देश ईरान ही था.

मोदी की यात्रा के दौरान रूहानी ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया था और जब अपने संबोधन के अंत में मोदी मिर्ज़ा ग़ालिब का शेर 'नूनत गरबे नफ्से-ख़ुद तमाम अस्त.ज़े-काशी पा-बे काशान नीम गाम अस्त.' (अगर हम अपना मन बना लें तो काशी और काशान के बीच की दूरी केवल आधा कदम होगी) पढ़ रहे थे तो ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी मुस्करा रहे थे.

इमेज कॉपीरइट PMO INDIA

रूहानी के लिए मोदी अपने साथ एक ख़ास तोहफ़ा भी लेकर गए थे. ये थी मिर्ज़ा असदुल्लाह ख़ान ग़ालिब की फ़ारसी रचनाओं के संग्रह की विशेष तौर पर तैयार कराई गई प्रति.

1863 में प्रकाशित हुई ग़ालिब की कुलियात-ए-फ़ारसी-ए-ग़ालिब में कुल 11 हज़ार पद हैं.

इमेज कॉपीरइट PMO INDIA

प्रधानमंत्री की ओर से राष्ट्रपति रूहानी को सुमैर चंद की फ़ारसी में अनुवादित रामायण की प्रति भी भेंट की गई.

इस रामायण का फ़ारसी अनुवाद 1715 में किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे