द. अफ्रीका: महिलाओं के समर्थन में पुरुषों का मार्च

  • 21 मई 2017
इमेज कॉपीरइट AFP

दक्षिण अफ्रीका में महिलाओं और बच्चों के ख़िलाफ़ हिंसा की बढ़ती घटनाओं के विरोध में राजधानी प्रिटोरिया में निकाले गए मार्च में सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया.

मार्च में शामिल लोगों में ज्यादातर पुरुष थे.

मार्च के आयोजकों में से एक खोलोफेलो माशा ने कहा, "पुरुषों को मारपीट, यौन हमलों और हत्याओं में इजाफ़े की सामूहिक जिम्मेदारी लेनी होगी. "

उन्होंने कहा कि दक्षिण अफ्रीका के पुरुष इस मुद्दे पर लंबे वक्त से खामोश हैं.

दक्षिण अफ्रीका में आज़ादी का उत्सव

माशा ने कहा, "आप के देखते हुए किसी पुरुष को किसी महिला को मारना या उसके साथ बलात्कार नहीं करना चाहिए. "

दक्षिण अफ्रीका की गिनती दुनिया के उन देशों में होती है जहां यौन हिंसा की दर सबसे ज्यादा है.

पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक बीते साल इस तरह के 64 हज़ार मामले दर्ज़ किए गए थे.

इस साल भी कई महिलाओं और बच्चों की निर्मम हत्याएं सुर्खियां बनीं और राष्ट्रपति जैकब जुमा ने स्थिति को चिंताजनक बताया.

इमेज कॉपीरइट AFP

शनिवार को निकाले गए मार्च में प्रदर्शनकारी एक महिला के पीछे चल रहे थे जिसने सिर से पांव तक सफेद रंग का परिधान पहना था.

कुछ लोगों ने अपने हाथों में तख्तियां थामी हुई थीं जिनमें उन महिलाओं के नाम दर्ज़ थे जिनकी हत्या उनके साथी ने की थी.

राष्ट्रपति ज़ुमा ने गुरुवार को तीन साल की उस बच्ची के माता-पिता से मुलाकात की थी जिसकी बलात्कार के बाद हत्या कर दी गई थी.

दिलचस्प तस्वीरों में सिमटा पूरा अफ्रीका

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे