अमरीका-सऊदी अरब के बीच सबसे बड़ा हथियार सौदा

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अपने पहले विदेशी दौरे पर सऊदी अरब पहुंचे अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का कहना है कि सऊदी अरब और अमरीका के बीच 350 अरब डॉलर के क़रार हुए हैं.

दोनों देशों के बीच 110 अरब डॉलर का हथियार सौदा भी हुआ है जो व्हाइट हाउस के मुताबिक अमरीका का अब तक का सबसे बड़ा हथियार सौदा है.

स्थानीय समय के मुताबिक शनिवार सुबह जब ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया सऊदी अरब पहुंचे तो उनका स्वागत किंग सलमान ने किया.

ट्रंप ऐसे समय में आठ दिन के विदेशी दौरे पर हैं जब अमरीका में एफ़बीआई के निदेशक जेम्स कोमी को पद से हटाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है.

ट्रंप अपने इस दौरे पर इसराइल, फ़लस्तीनी क्षेत्र, वेटिकन सिटी और सिसली भी जाएंगे.

राष्ट्रपति ट्रंप पहले विदेश दौरे पर सऊदी अरब में

मुसलमानों को कोसने वाले ट्रंप सबसे पहले सऊदी अरब क्यों गए?

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन का कहना है कि सऊदी अरब के साथ हुआ हथियार समझौता 'ईरान के दुष्प्रभाव' का जवाब देने के लिए है.

रियाद में एक प्रेस वार्ता में टिलरसन ने कहा, "रक्षा प्रणाली और सेवाओं का ये पैकेज सऊदी अरब और समूचे खाड़ी क्षेत्र की दीर्घकालिक सुरक्षा को मज़बूत करेगा."

ट्रंप के साथ उनकी बेटी इवांका और दामाद जेरेड कुशनर भी आए हैं. इवांका बिना वेतन के व्हाइट हाउस में सलाहकार हैं जबकि कुशनर ट्रंप प्रशासन के अहम सदस्य हैं.

ब्रितानी प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे और जर्मन चांसलर अंगेला मेर्कल की तरह ही इवांका ट्रंप भी बिना सिर ढके सऊदी अरब पहुंची हैं. हालांकि जनवरी 2015 में जब मिशेल ओबामा बिना सिर ढके सऊदी अरब आईं थीं तब ट्रंप ने ऐसा करने के लिए उनकी आलोचना की थी.

ट्रंप अरब इस्लामी अमरीकी शिखर सम्मेलन में हिस्सा भी लेंगे और इस्लाम के बारे में अपने विचार रखेंगे. समझा जा रहा है कि वो "इस्लाम के शांतिपूर्ण दर्शन" पर बोलेंगे.

ट्रंप के सहयोगियों को उम्मीद है कि उनके भाषण का असर दुनियाभर में होगा और वो 'शांति, प्रगति और स्मृद्धि के साझा दृष्टिकोण' को दुनिया के सामने रख पाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे