चीन ने 20 अमरीकी जासूसों को मार दिया या क़ैद कर लिया था- न्यूयॉर्क टाइम्स

  • 21 मई 2017
इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption बीजिंग में अमरीकी दूतावास के बाहर तैनात चीनी सैनिक.

द न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि चीन ने 2010 से 2012 के बीच ही अमरीका के 18-20 जासूसों को या तो मार दिया या गिरफ़्तार कर लिया था.

रिपोर्ट के मुताबिक इससे चीन में अमरीकी जासूसी कार्यक्रम बुरी तरह प्रभावित हुआ.

अमरीकी अधिकारियों ने अख़बार को बताया है कि ये 'अमरीकी सुरक्षा के साथ बीते दशकों में सबसे बड़ा खिलवाड़' था.

क्या यह चीन की बढ़ती ताक़त का नज़ारा है?

न्यू सिल्क रूट को लेकर चीन के इरादे क्या हैं

कुछ का मानना है कि चीन ने सीआईए के गुप्त संदेशों के सिस्टम को हैक कर लिया था जबकि अन्य का मानना है कि किसी अंदरूनी व्यक्ति ने ही 2010 में चीन को जासूसों के बारे में जानकारी दी.

द न्यूयॉर्क टाइम्स ने सीआईए के चार पूर्व अधिकारियों से बातचीत करके ये रिपोर्ट प्रकाशित की है.

चिंतित करने वाली तस्वीर

चीन में अमरीकी ख़ुफ़िया सेवा सीआईए के जासूस 2011 से ग़ायब होने शुरू हो गए थे. अमरीका के एक जासूस को तो उसके सहकर्मी के सामने ही सरकारी इमारत के बरामदे में गोली मार दी गई थी.

इमेज कॉपीरइट CENTRAL INTELLIGENCE AGENCY

सीआईए ने अभी तक इस रिपोर्ट पर कोई टिप्पणी नहीं की है.

इस ख़बर पर काम करने वाले न्यूयॉर्क टाइम्स के पत्रकार मैट अपुज़्ज़ो ने बीबीसी को बताया, "सबसे चिंता की बात ये है कि हम अभी तक ये नहीं जानते कि इन एजेंटों के साथ क्या हुआ?"

वे आगे कहते हैं, "अमरीकी सरकार के अंदर इस बात पर अलग अलग राय है कि क्या सीआईए के अंदर कोई जासूसी कर रहा था या फिर सीआईए एजेंट ढीले पड़ गए थे."

वो ये भी कहते हैं कि जानकारी देने वालों की पहचान गुप्त नहीं रही या फिर चीन सीआईए एजेंटों के कम्यूनिकेशन को हैक करने में कामयाब रहा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे