मुस्लिम देशों को लेकर बदल रहा है ट्रंप का नजरिया?

  • 22 मई 2017
इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने रियाद में 40 से ज्यादा मुस्लिम देशों के नेताओं को संबोधित करते हुए सऊदी अरब की मेजबानी की दिल खोलकर तारीफ़ की.

लेकिन राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने भाषण का इस्तेमाल अरब और मुस्लिम देशों को सख़्त संदेश देने के लिए भी किया.

उन्होंने स्पष्ट किया कि या तो चरमपंथ को बढ़ावा देने वाली विचारधारा से अब निबट लो या फिर आने वाली कई पीढ़ियों तक इसके साथ संघर्ष करते रहो.

ट्रंप आमतौर पर तीखी भाषा के लिए जाने जाते हैं लेकिन इस बार वो अपने तरीके के विपरीत बेहद संयमित रहे.

सऊदी अरब में नाचे ट्रंप, सोशल पर चिल्ल-पौं

'धर्म के नाम पर आतंकवाद का खेल अब बंद हो'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का सऊदी के शाही परिवार ने गर्मजोशी से स्वागत किया.

ट्रंप ने सऊदी अरब के क्षेत्रीय प्रतिद्वंदी ईरान की बार-बार आलोचना की और इससे खाड़ी के अरब देशों के नेता ज़रूर ख़ुश हुए होंगे.

अपने पूर्ववर्ती बराक ओबामा की तरह मौजूदा अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने अपने भाषण में मानवाधिकारों या प्रजातंत्र का कोई उल्लेख नहीं किया.

हालांकि उन्होंने महिलाओं के दमन की आलोचना ज़रूर की.

इमेज कॉपीरइट Reuters

खाड़ी क्षेत्र में सोशल मीडिया पर ट्रंप के भाषण के लेकर कई तरह की तीखी प्रतिक्रियाएं भी आईं. कुछ लोगों ने ध्यान दिलाया कि सऊदी अरब में महिलाओं के गाड़ी चलाने पर पाबंदी है और यहां लोकतांत्रिक चुनाव भी नहीं होते हैं.

दूसरी ओर ईरान में, जिस पर ट्रंप ने मध्य पूर्व के मौजूदा संघर्षों के पीछे होने का आरोप लगाया, महिलाएं गाड़ी चला सकती हैं और वहां हाल ही में स्वतंत्र राष्ट्रपति चुनाव हुए हैं.

विश्लेषकों का मानना है कि ट्रंप के भाषण से उनमें बदलाव दिखा है. ट्रंप मुस्लिम देशों के साथ अपने रिश्तों को फिर से परिभाषित करने की कोशिश कर रहे हैं.

ट्रंप अब तक मुसलमानों के ख़िलाफ़ कई विवादित बयान दे चुके हैं. बीते साल दिए गए एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा था, "मुझे लगता है इस्लाम हमसे नफ़रत करता है."

ट्रंप ने अपने भाषण में एक बार भी 'कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद' जैसे वाक्य का इस्तेमाल नहीं किया.

ट्रंप इससे पहले इसका इस्तेमाल करते रहे हैं और दुनियाभर के मुसलमान इसे अपमानजनक मानते रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)