'नवाज़ शरीफ़ सरकार जनता के अधिकारों की बलि ना चढ़ाए'

  • 22 मई 2017
इमेज कॉपीरइट AFP

पाकिस्तान की मानवाधिकार कार्यकर्ता अस्मा जहांगीर ने कहा है कि सरकार लोगों की स्वतंत्रता को छीन कर सेना को खुश करने की कोशिश कर रही है.

बीबीसी उर्दू सेवा के मुताबिक, उन्होंने मुस्लिम लीग की सरकार से कहा है कि उसे जो कुछ भी करना है वो अपने बलबूते पर करे, न कि जनता के अधिकारों को बलि चढ़ाकर.

फ़ेडरल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एफ़आईए) की ओर से सोशल मीडिया पर उदारवादी राजनीतिक कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी और उन्हें कथित तौर पर प्रताड़ित किए जाने की घटनाओं पर अस्मा जहांगीर का बयान आया है.

पाकिस्तानी के प्रमुख अख़बार डान के मुताबिक एफ़आईए ने ऐसे दर्जनों लोगों की पहचान की है जो सोशल मीडिया पर कथित तौर पर पाकिस्तानी सेना पर सवाल उठाते हैं.

अख़बार के मुताबिक इसमें विपक्षी पार्टियों से जुड़े कार्यकर्ता भी शामिल हैं. कुछ लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है.

डॉन अख़बार ने एफ़आईए के एक अधिकारी के हवाले से कहा है कि दर्जनों लोगों की पहचान हो गई है और इनमें से कुछ को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है.

नवाज़ सरकार पर बिफरा पाकिस्तानी मीडिया

पाकिस्तान सरकार को किस-से डर लगता है!

'आलोचना बर्दाश्त नहीं'

अस्मा जहांगीर ने कहा- "प्रगतिशील लोगों पर कार्रवाई, गृहमंत्री के इस बयान के बाद हो रही है जिसमें उन्होंने कहा था कि सेना के ख़िलाफ़ किसी प्रकार की आलोचना बर्दाश्त नहीं है."

इमेज कॉपीरइट Reuters

उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी अपने सैनिकों की भूमिका पसंद करते हैं लेकिन जब वे अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर- राजनीति या व्यापार में कदम रखते हैं तो लोगों को उसकी आलोचना का अधिकार है.

हिरासत में पूछताछ

आस्मा ने ये भी कहा कि अगर इस तरह लोगों को पकड़ा गया तो यह सेना की अपनी प्रतिष्ठा के लिए अच्छा नहीं होगा.

उनके मुताबिक जिन लोगों की स्वतंत्रता को छीना जा रहा है वह अदालतों का दरवाजा खटखटाएंगे और ये अदालतों की बहुत बड़ी परीक्षा होगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption पाकिस्तान के सेना प्रमुख क़मर जावेद बाजवा

उन्होंने कहा, "मैं समझता हूं कि अदालतें यदि लोगों की जान, माल, और स्वतंत्रता की रक्षा नहीं कर सकती है, तो हमें बाक़ी बातें नहीं चाहिए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे