डोनल्ड ट्रंप के कानों में गूंज रहे हैं ये शब्द

  • 22 मई 2017
इमेज कॉपीरइट EPA

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का कहना है कि इस पूरे हफ़्ते वो 'अमरीकी इतिहास में पहली बार ऐसी राजनीति के शिकार रहे जिसमें सब उनके पीछे पड़े थे.

उनके आसपास गेट, फ्लिन जैसे कई शब्द गूंजते रहे. इन दिनों राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के ख़िलाफ़ महाभियोग चलाने के संकेत दिए जा रहे हैं. यहां तक कि रिपब्लिकन पार्टी के कुछ सीनेटर तक ट्रंप के ख़िलाफ़ दिख रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

फ्लिन से जुड़े फैक्ट

दरअसल पिछले कुछ दिनों में डोनल्ड ट्रंप पर कई आरोप लगे हैं. कुछ दिन पहले उन्होंने एफबीआई के निदेशक जेम्स कोमी को बर्ख़ास्त कर दिया था. अमरीकी मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़ अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने इस साल फ़रवरी में तत्कालीन एफ़बीआई प्रमुख जेम्स कोमी को रूस और उनके पूर्व सुरक्षा सलाहकार माइकल फ़्लिन के बीच संबंधों की जाँच ख़त्म करने को कहा था.

रिपब्लिकन नेता ही हुए डोनल्ड ट्रंप के ख़िलाफ़

हिलेरी ने एफबीआई जांच पर उठाए सवाल

इमेज कॉपीरइट Getty Images

फ्लिन रूसी अफसरों से संबंधों के लेकर घेरे में थे और उन्हें इस्तीफा भी देना पड़ा था.

हाल ही में ट्रंप ने एफ़बीआई के निदेशक जेम्स कोमी को पद से हटा दिया है.

राष्ट्रपति ट्रंप ने एक पत्र लिखकर जेम्स कोमी से कहा है कि वो प्रभावी तरीके से एफ़बीआई की अगुआई नहीं कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्यों आ रहा है वॉटरगेट का नाम?

इस बीच ट्रंप पर कथित इस्लामिक स्टेट ग्रुप के बारे में रूस के साथ गोपनीय ख़ुफ़िया जानकारी साझा करने का भी आरोप लगा. ये जानकारी अमरीका को इसराइली ख़ुफ़िया तंत्र से मिली थी.

अमरीकी अख़बार 'द वॉशिंगटन पोस्ट' ने दावा किया था कि राष्ट्रपति ट्रंप ने पिछले दिनों व्हाइट हाउस में एक मीटिंग के दौरान रूस के विदेश मंत्री सर्जेई लावरोफ़ और रूसी राजदूत के साथ ये जानकारी साझा की. ये वो जानकारी थी जिसे साझा करने के लिए ट्रंप अधिकृत नहीं थे.

हालांकि ख़ुद राष्ट्रपति ट्रंप और अमरीका के कई शीर्ष अधिकारियों ने इस ख़बर को ग़लत बताया और दावा किया कि जो भी बातचीत हुई है उसमें ऐसी कोई जानकारी साझा नहीं की गई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इसे 1972 में हुए वॉटरगेट कांड से जोड़ दिया गया जो अमरीका का पहला ऐसा स्कैंडल था जो अपने झूठ-फ़रेब और सच्चाई को छिपाने के लिए सुर्ख़ियों में आया था. ये सभी आरोप 1972 में वॉटरगेट परिसर स्थित नेशनल डेमोक्रेटिक कमेटी के दफ़्तर में जबरन घुसने से संबंधित थे.

तब तत्कालीन अमरीकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने वॉटरगेट कांड में पड़ रहे दबाव और संभावित महाभियोग के ख़तरे को देखते हुए पद छोड़ा था.

अमरीका में गूंजा नारा: ट्रंप, रास्ते से हटो

ट्रंप का एफ़बीआई निदेशक को हटाना क्यों संदेह पैदा करता है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्यों हो रही है महाभियोग की चर्चा?

तो ट्रंप के मामले में गेट शब्द से मतलब उस संवेदनशील जानकारी से है, जो क़ानूनन केवल कुछ लोगों के लिए ही है. इस तरह के दस्तावेज़ों के लिए सुरक्षा जांच से गुज़रने की ज़रूरत होती है.

इन्हीं आरोपों की बुनियाद पर ट्रंप के आसपास 'महाभियोग' शब्द गूंजने लगा.

इसका ये मतलब नहीं होता कि राष्ट्रपति को हटा दिया जाएगा लेकिन उन्हें हटाए जाने की ओर ये पहला क़दम होता है.

जब किसी राष्ट्रपति पर गंभीर आरोप लगते हैं तो उस पर महाभियोग लगाया जाता है. महाभियोग के बाद राष्ट्रपति को पद छोड़ना पड़ता है.

अमरीकी संविधान के मुताबिक राष्ट्रपति को देशद्रोह, रिश्वत और दूसरे संगीन अपराधों में महाभियोग का सामना करना पड़ता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका में महाभियोग की प्रक्रिया हाउस ऑफ रिप्रेज़ेंटेटिव्स से शुरू होती है और इसे पास करने के लिए साधारण बहुमत की ज़रूरत पड़ती है. इस पर एक सुनवाई सीनेट में होती है लेकिन यहां महाभियोग को मंजूरी देने के लिए दो तिहाई बहुमत की ज़रूरत पड़ती है. अमरीकी इतिहास में इस मील के पत्थर तक अभी तक पहुंचा नहीं जा सका है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे