अमरीका-सऊदी अरब: ये रिश्ता क्या कहलाता है?

  • 22 मई 2017
अमरीका-सऊदी अरब रिश्ते इमेज कॉपीरइट AFP

डोनल्ड ट्रंप ने बतौर अमरीकी राष्ट्रपति अपने पहले विदेश दौरे के लिए सऊदी अरब को चुना. यहां वे अरब इस्लामिक अमेरिकन बैठक में हिस्सा ले रहे हैं.

ट्रंप प्रशासन ने हाल ही में छह मुस्लिम बहुल देशों के लोगों के अमरीका आने पर रोक लगाने की कोशिशें शुरू की हैं.

हालांकि ट्रंप की मुहिम फ़िलहाल अमरीकी अदालतों में लंबित है लेकिन इस वजह से उन्हें इस्लाम विरोधी क़रार दिया जा रहा था.

लेकिन इन सबके बीच वे अपने पहले विदेश दौरे किसी मुस्लिम देश में गए हैं. अमरीका और सऊदी अरब का रिश्ता सात दशकों से चला आ रहा है.

70 साल पुराने इस रिश्ते में सबसे ख़ास बात तेल के बदले सुरक्षा मुहैया कराना है. लेकिन इसके बावजूद दोनों देशों के रिश्तों में उतार-चढ़ाव आते रहे हैं.

डोनल्ड ट्रंप के कानों में गूंज रहे हैं ये शब्द

ट्रंप पर ईरान का तंज़, सऊदी को लोकतंत्र-उदारवाद का गढ़ कहा

इमेज कॉपीरइट HULTON ARCHIVE / GETTY IMAGES

सऊदी अरब के तेल के इतिहास में अमरीकी रोल

सऊदी अरब ने अपनी पहली तेल सब्सिडी के सिलसिले में साल 1933 में अमरीकी कंपनी स्टैंडर्ड ऑयल के साथ करार किया.

पांच साल बाद सऊदी अरब के पूर्वी क्षेत्र दम्माम में तेल के भंडार का पता चला.

साल 1944 में अरीबियन अमेरिकन ऑयल कंपनी (अरामको) का गठन किया गया जो 1952 तक न्यूयॉर्क में स्थित रही.

सऊदी सरकार ने 1980 में इस कंपनी को पूरी तरह से अपने नियंत्रण में ले लिया.

मुस्लिम देशों को लेकर बदल रहा है ट्रंप का नजरिया?

'धर्म के नाम पर आतंकवाद का खेल अब बंद हो'

इमेज कॉपीरइट HULTON ARCHIVE / GETTY IMAGES

लाल सागर में जंगी जहाज पर रिश्तों की शुरुआत

अमरीका और सऊदी अरब के सामरिक रिश्तों की शुरुआत आधुनिक सऊदी अरब के संस्थापक शाह अब्दुल अजीज अल सऊद के ज़माने में हुई जब वह अमरीकी राष्ट्रपति फ्रैंकलिन रुजवेल्ट से 1945 में अमरीकी नौसैनिक युद्धपोत यूएसएस क्वींस पर मिले.

स्वेज़ नहर में होने वाली इस बैठक में दो महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात हुई.

एक फलीस्तीन में यहूदी देश की स्थापना और दूसरा सऊदी अमरीका करार जिसके तहत अमरीका सऊदी अरब को सुरक्षा मुहैया कराएगा और बदले में अमरीका को सऊदी अरब का तेल मिलेगा.

तो अब मुसलमानों के लिए बदल जाएंगे ट्रंप

सऊदी अरब में नाचे ट्रंप, सोशल पर चिल्ल-पौं

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty Images

इसराइल और तेल पर पाबंदी

1973 के अरब-इसराइल संघर्ष के दौरान ओपेक ने इसराइल का समर्थन करने वाले देशों को तेल देने पर प्रतिबंध लगा दिया था.

इन देशों में अमरीका भी शामिल था. इस प्रतिबंध ने अमरीका और विश्व अर्थव्यवस्था को झकझोर कर रख दिया था.

इमेज कॉपीरइट RAVEENDRAN / AFP / GETTY IMAGES

अफ़ग़ानिस्तान और सोवियत संघ

1979 में सोवियत संघ अफगानिस्तान में दाखिल हुआ जिसके मुकाबले में मुजाहिदीन फौज तैयार की गई.

इस फौज की तैयारी में अमरीका का साथ सऊदी अरब और पाकिस्तान ने दिया.

इस फौज में ओसामा बिन लादेन समेत हजारों सुन्नी लड़ाके शरीक हुए जो बाद में अल कायदा के प्रमुख भी बने.

इमेज कॉपीरइट PASCAL GUYOT / AFP / GETTY IMAGES

सद्दाम का कुवैत पर हमला

1991 में इराक के राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन ने कुवैत पर हमला किया तो कुवैत से इराकी सेना को निकालने के लिए अमरीका ने सऊदी अरब में फौज भेजी.

सख्त रुख रखने वाली कुछ सऊदी धार्मिक हस्तियों ने सऊदी अरब में अमरीकी सेना की तैनाती की निंदा की.

अमरीकी सेना की सऊदी अरब से वापसी 2003 में हुई जब इराकी राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन का तख्ता पलट दिया गया.

अमरीका और सऊदी अरब के बीच आतंकवाद विरोधी सहयोग के रिश्ते अधिक मजबूत हुए.

और स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टिट्यूट के अनुसार सऊदी अरब अमरीका सबसे अधिक हथियार खरीदने वाला देश बन गया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सितंबर 11 के हमले

अमरीका और सऊदी अरब के बीच संबंध 11 सितंबर 2001 में अमरीका पर हमले के बाद खराब हुए जिनमें तीन हज़ार लोग मारे गए.

जिन 19 अपहरणकर्ताओं ने विमान अपहरण किए थे उनमें से 15 का संबंध सऊदी अरब से था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सद्दाम हुसैन और बुश

2003 में सऊदी अरब ने अमरीका से इराकी राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को हटाने के निर्णय का विरोध किया.

इसीलिए सऊदी अरब ने अमरीकी गठबंधन का हिस्सा बनने से इनकार कर दिया. सऊदी अरब का कहना था कि सद्दाम हुसैन को हटाए जाने से इराक संप्रदायों में बंट जाएगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

ओबामा और ईरान

2015 में अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की ओर से ईरान के साथ परमाणु समझौता करने पर सऊदी अरब को अहसास हुआ कि उसे दुत्कारा गया है.

सऊदी अरब ने अन्य तेल संपन्न सुन्नी अरब देशों के साथ आक्रामक विदेश नीति अपनाई.

इस नीति के कारण उसने बहरीन में लोकतंत्र के पक्ष में होने वाले प्रदर्शनों को कुचलने के लिए सेना भेजी, मिस्र में अब्दुल फतह सीसी की तरफ से सरकार पलटने का समर्थन किया, और यमन में जारी गृहयुद्ध में अपनी सेना को उतार दिया.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने एक बयान में सऊदी अरब के साथ संबंधों को 'जटिल' करार दिया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सऊदी अरब पर मुकदमा करने का बिल

सितंबर 2016 में अमरीकी कांग्रेस ने एक विधेयक पारित किया जिसके तहत 11 सितंबर के हमलों में शामिल होने पर सऊदी अरब पर अमरीकी नागरिक मुकदमा दायर कर सकते हैं.

इस विधेयक को रुकवाने के लिए व्हाइट हाउस और सऊदी अरब ने बेहद कोशिश की लेकिन नाकाम रहे.

सऊदी अरब ने यहां तक ​​कहा कि अगर यह विधेयक पारित किया गया तो सऊदी अरब अमरीका में अपना निवेश समाप्त कर लेगा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रं

ट्रंप ने राष्ट्रपति पद संभालने के बाद सऊदी अरब के साथ संबंधों को बेहतर बनाने के प्रयास शुरू कर दिए.

इसके साथ उन्होंने इस बात का भी ऐलान किया कि उनके अनुसार ईरान के साथ परमाणु समझौता एक बहुत बड़ी ग़लती थी.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का सऊदी के शाही परिवार ने गर्मजोशी से स्वागत किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)