फ़िलीपींस के मिन्डनाओ में मार्शल लॉ लागू

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption मार्शल लॉ लागू होने के बाद डेवाओ शहर में सैनिक तैनात हैं

फ़िलीपींस के राष्ट्रपति रॉड्रिगो ड्यूटर्टे ने देश के दक्षिणी द्वीप मिन्डनाओ में मार्शल लॉ लागू करने की घोषणा की है.

मिन्डनाओ में सेना और विद्रोहियों के बीच लड़ाई जारी है.

सेना के अधिकारियों के मुताबिक़ इसमें सुरक्षा बलों के तीन सदस्यों की मौत हो गई है और 12 लोग घायल हो गए हैं.

मार्शल लॉ दो महीने तक लागू रहेगा. इस दौरान सेना को बिना किसी आरोप के लोगों को लंबे समय तक हिरासत में लेने की आज़ादी होगी.

मिन्डनाओ में मुस्लिम विद्रोही संगठन स्वायत्ता की मांग कर रहे हैं.

सेना के मुताबिक़ कुछ विद्रोही गुटों ने चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के लिए समर्थन जताया था और मरावी में मंगलवार को जब सेना ने इन विद्रोहियों को पकड़ने के लिए अभियान चलाया तो हिंसा भड़क उठी.

'रिश्वतखोरों को हेलिकॉप्टर से नीचे गिरा दूँगा'- फिलीपींस के राष्ट्रपति

कौन हैं फ़िलीपीन्स के राष्ट्रपति दुतेर्ते?

रक्षा मंत्री डेल्फ़िन लोरेंज़ाना ने कहा , ''ये विद्रोही मौटे गुट के हैं. इन विद्रोहियों ने एक अस्पताल और एक जेल पर कब्ज़ा कर लिया और एक चर्च समेत कई इमारतों में आग लगा दी.''

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption राष्ट्रपति रॉड्रिगो ड्यूटर्ट

फ़िलहाल राष्ट्रपति ड्यूटर्ट रूस के दौरे पर हैं लेकिन उनके प्रवक्ता ने कहा कि वो जल्द ही फ़िलीपींस लौट रहे हैं.

फ़िलीपींस के संविधान के मुताबिक़ हमले या विद्रोह की स्थिति में राष्ट्रपति को सिर्फ़ 60 दिन के लिए मोर्शल लॉ लागू करने का अधिकार है.

संसद को मार्शल लॉ लागू करने के आदेश को 48 घंटों में रद्द करने का अधिकार है और सुप्रीम कोर्ट इसकी वैधता की समीक्षा कर सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)