मैनचेस्टर हमलाः कौन था संदिग्ध हमलावर?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मैनचेस्टर के वैले रेंज का वो घर जहां पुलिस ने तलाशी ली

ब्रिटेन की सुरक्षा एजेंसियों ने मैनचेस्टर में आत्मघाती हमला करनेवाले संदिग्ध हमलावर की पहचान कर ली है.

पुलिस के अनुसार ये हमला संभवतः 22 साल के सलमान रमादान आबदी ने किया जिसने ख़ुद को उड़ा लिया. हमले में 22 लोगों की जान गई और लगभग 60 लोग घायल हो गए.

मैनचेस्टर का हमलावर हमारा समर्थक: आईएस

मैनचेस्टर धमाकाः 'कोई दरवाजे से अंदर आया और धमाका हो गया'

बीबीसी को मिली जानकारी के मुताबिक़ उसका जन्म मैनचेस्टर में 1994 में हुआ.

समझा जाता है कि उसके माता-पिता लीबियाई मूल के थे जो रिफ्यूजी के तौर पर ब्रिटेन आए थे.

माना जा रहा है कि उसके तीन भाई बहन हैं. सबसे बड़े भाई का जन्म लंदन में हुआ था और सबसे छोटे भाई और बहन का जन्म मैनचेस्टर में हुआ था.

आबदी की स्कूल की पढ़ाई मैनचेस्टर में ही हुई, वो मैनचेस्टर यूनाइटेड फ़ुटबॉल टीम का समर्थक था और एक बेकरी में काम करता था.

इमेज कॉपीरइट PA

घर पर लगा रहता था लीबिया का झंडा

ऐसा माना जा रहा है कि आबदी ने हाल ही में विदेश यात्रा की थी.

आबदी का परिवार शहर में कई पतों पर रह चुका है, जिसमें फेलोफ़ील्ड में एल्समोर रोड पर स्थित वो घर भी शामिल है जहां पुलिस ने छापा मारा था.

अधिकारियों ने वैले रेंज के घर की भी तलाशी ली है.

ब्रिटेन में मैनचेस्टर में सबसे अधिक लीबियाई परिवार रहते हैं. पड़ोसी बताते हैं कि आबदी परिवार के घर पर साल के कुछ विशेष दिनों में लीबियाई झंडा लगा रहता था.

बीबीसी के गृह मामलों के संपादक मार्क एस्टन कहते हैं कि जिन इलाकों में छापा मारा गया वो हाल के दिनों में कई इस्लामिक चरमपंथियों के लिए जाना जाता रहा है.

इनमें से कई के संबंध सीरिया और लीबिया से हैं, जिनमें कुछ की मौत हो चुकी है और कुछ ज़िंदा हैं.

सैलफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी ने इस बात की पुष्टि की है कि आबदी वहां स्टूडेंट रहा था. यूनिवर्सिटी का कहना है कि वो पुलिस के साथ जांच में सहयोग कर रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक युवक को किया गया है गिरफ़्तार

डिड्सबरी मस्जिद के नाम से भी जाना जाने वाला मैनचेस्टर इस्लामिक सेंटर के एक ट्रस्टी ने समाचार एजेंसी प्रेस एसोसिएशन को बताया कि आबदी संभवतः वहां आता था.

फवाज़ हाफ़र ने कहा कि आबदी के पिता अक्सर इस मस्जिद में नमाज़ अदा करने आते थे और आबदी का एक भाई वहां वालंटियर के रूप में काम करता था.

हाफ़र इस बात पर जोर देते हैं कि ये मस्जिद आधुनिक और उदारवादी विचारों वाली रही है और वो जिस एडवाइज़री ग्रुप संगठन के सदस्य हैं वो पुलिस के साथ मिलकर काम करता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ग्रेटर मैनचेस्टर पुसिल प्रमुख कांस्टेबल इयन हॉपकिंस ने कहा कि आबदी का नाम औपचारिक रूप से पुलिस की डायरी में दर्ज नहीं था.

उन्होंने कहा कि जांचकर्ताओं के लिए सबसे ज़रूरी इस बात की पुष्टि करना है कि हमला आबदी ने अकेले किया या वो किसी बड़े नेटवर्क का हिस्सा था.

इस धमाके में 22 लोग मारे गए और 60 के क़रीब लोग घायल हुए थे. जांच के सिलसिले में 23 साल के एक युवक को भी गिरफ़्तार किया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे