नेपाल: नौ महीने बाद प्रधानमंत्री प्रचंड का इस्तीफा

पुष्प कमल दहाल उर्फ प्रचंड इमेज कॉपीरइट PRAKASH MATHEMA/AFP/Getty Images

नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहाल उर्फ प्रचंड ने बुधवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने प्रचंड का कार्यकाल इस बार तकरीबन नौ महीने का रहा.

बीबीसी नेपाली संवाददाता सुरेंद्र फुयाल के मुताबिक, उनका इस्तीफा ऐसे समय में आया है जब नेपाल में तीन हफ्ते बाद दूसरे दौर के स्थानीय चुनाव होने हैं.

इस्तीफे की घोषणा करते समय उन्होंने अपनी सरकार की उपलब्धियों के बारे में विस्तार से बताया. उनका भाषण नेपाली टेलीविजन चैनलों पर देश भर में प्रसारित हुआ.

अपने फैसले के बारे में बताते हुए प्रचंड ने कहा, हमारे समझौते के मुताबिक मैं अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं. मैं राष्ट्रपति के पास अपना त्यागपत्र सौंपने जा रहा हूं.

हालांकि सत्ता में इस फेरबदल की पटकथा नौ महीने पहले ही लिखी जा चुकी थी.

गठबंधन सरकार के गठन के समय ही प्रचंड की पार्टी ने नेपाली कांग्रेस से स्थानीय चुनाव के पहले चरण के बाद सरकार से हटने का वादा किया था और बुधवार को प्रचंड ने अपना ये वादा निभाया.

समाचार एजेंसी एएफ़पी के मुताबिक कभी प्रचंड के सियासी दुश्मन रहे शेर बहादुर देउबा नेपाल की कमान संभाल सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट PRAKASH MATHEMA/AFP/Getty Images
Image caption 62 वर्षीय दहाल ने तत्कालीन सरकार से अलग होकर देउबा की नेपाली कांग्रेस के साथ गठजोड़ किया था

तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे देउबा सत्तारूढ़ गठबंधन की प्रमुख पार्टी नेपाली कांग्रेस के नेता हैं.

गठबंधन के करार के तहत प्रचंड को स्थानीय निकाय के पहले चरण के बाद सत्ता से हट जाना था.

नेपाल में दस दिन पहले ही देश के सात प्रांतों में से तीन में स्थानीय चुनाव हुए हैं. अगल दस दिनों में देउबा की नियुक्ति की औपचारिकताएं पूरी होने की संभावना है.

62 वर्षीय दहाल ने तत्कालीन सरकार से अलग होकर देउबा की नेपाली कांग्रेस के साथ गठजोड़ किया था.

वो शेरबहादुर देउबा ही थे जिनके कार्यकाल में माओवादी संघर्ष के दिनों में तब प्रचंड को जिंदा या मुर्दा पकड़ने पर 50 लाख रुपये का इनाम रखा था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे