आलोचना के बाद अफ़ग़ानिस्तानी गायिका ने जलाई ड्रेस

  • 26 मई 2017
इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/ARYANA SAYEED

अफ़ग़ानिस्तान की मशहूर पॉप स्टार अरयाना सईद ने अपनी उस ड्रेस को जला कर उसका उसका वीडियो सोशल मीडिया पर डाला है, जिसकी आलोचना हुई थी.

एक कंसर्ट में स्किन कलर्ड ड्रेस पहनने पर धर्मगुरुओं और आम लोगों ने उनकी आलोचना की थी.

क्या औरतों का भी है अफ़ग़ानिस्तान?

अफ़ग़ानिस्तान: पति ने दिए ज़ख़्म तो रेस्तरां ने दिया सहारा

अरयाना ने इस वीडियो को अपने फ़ेसबुक पेज पर अपलोड किया है, जिसमें उस ड्रेस को आग में जलते हुए दिखाया गया है जिसको लेकर अफ़गानिस्तान में काफी हंगामा मचा था.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/ARYANA SAYEED

इस विवादित टाइट फिटिंग ड्रेस को उन्होंने 13 मई को पेरिस के एक कंसर्ट में पहना था.

इसके बाद कई धर्मगुरुओं ने इसकी आलोचना की थी और सोशल मीडिया पर लोगों ने गुस्से का इज़हार किया था.

अफ़ग़ानिस्तान में इस्लामिक स्टेट का कितना रौब

अफ़ग़ानिस्तान: बादाम बाग़ महिला जेल में बिताए कुछ घंटे

लोगों का कहना था कि ये अफ़ग़ानिस्तानी संस्कृति के ख़िलाफ़ है और ग़ैर इस्लामिक है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि ड्रेस जलाते हुए वो खुश नहीं थीं. वीडियो पर उन्होंने अपने 16 लाख फॉलोवर्स से कहा, "अगर आप सोचते हैं कि आज अफ़ग़ानिस्तान की सबसे बड़ी समस्या ये ड्रेस है तो मैं आपके लिए आज इस ड्रेस को आग लगा दूंगी."

सईद अफ़ग़ानिस्तान में जानी-मानी गायिका, गीतकार और टीवी शख्सियत हैं, जो पॉप, हिप हॉप और गानें गाती हैं.

वो द वाइस टैलेंट शो की जज भी हैं, जिसे काबूल के टोलो टीवी पर प्रसारित किया जाता है.

ड्रेस जलाने की घटना पर सोशल मीडिया बंटा हुआ नज़र आया. अधिकांश लोगों ने ड्रेस जलाए जाने को सही ठहराया.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/ARYANA SAYEED

एक फ़ेसबुक यूज़र ने लिखा, "हम मुसलमान जानते हैं कि इस्लाम में औरत के निर्वस्त्र होने पर पाबंदी है और यह ग़लत है."

हालांकि सईद को उनके प्रशंसकों की ओर से समर्थन भी मिला.

लोगों ने कहा, "उन्हें लोगों की गंदी ज़ुबान को जलाना चाहिए था, जिन्होंने बेवजह उनकी आलोचना की. ड्रेस जलाना कोई अच्छा काम नहीं था."

हालांकि सईद अपनी बात पर अड़ी हैं, "ये जान लेना चाहिए कि मैंने जो काम किया है वो इसलिए नहीं कि मैं उन लोगों के दबाव में आ गई जो अभी भी अंधकार युग में जी रहे हैं. बल्कि हमारे समाज के अंदर के अहम मुद्दों पर ध्यान खींचना मकसद था."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे